दारोगा भर्ती में फिजिकल टेस्ट गड़बड़ी के बाद पटना HC ने राज्‍य स्‍वास्‍थ्‍य समिति में बहाली पर रोक लगाई

ABHINAV AZAD, Last updated: Wed, 24th Nov 2021, 12:06 PM IST
  • पटना हाईकोर्ट बिहार दारोगा भर्ती में गड़बड़ी को लेकर सख्त है. इस बाबत कोर्ट ने बिहार में राज्‍य स्‍वास्‍थ्‍य समिति में भी बहाली पर रोक लगा दी है. साथ ही कोर्ट ने बिहार पुलिस अधीनस्थ सेवा भर्ती आयोग से दारोगा भर्ती से जुड़े मूल अभिलेखों को कोर्ट में पेश करने का आदेश दिया है.
(प्रतीकात्मक फोटो)

पटना. दारोगा की भर्ती के लिए फिजिकल टेस्ट में गड़बड़ी की बात सामने आ रही है. इस बाबत पटना हाई कोर्ट ने बिहार पुलिस अधीनस्थ सेवा भर्ती आयोग से दारोगा भर्ती से जुड़े मूल अभिलेखों को कोर्ट में पेश करने का आदेश दिया है. न्यायाधीश पीबी बजनथ्री की एकलपीठ ने अखिलेश कुमार व अन्य की ओर से दायर रिट याचिका पर सुनवाई करते हुए यह निर्देश दिया.

याचिकाकर्ता की ओर से वरीय अधिवक्ता पीके शाही के मुताबिक, दारोगा भर्ती हेतु प्रारंभिक व मुख्य परीक्षाओं में ये सभी याचिकाकर्ता सफल हुए. उन्हें बोर्ड ने शारीरिक दक्षता जांच हेतु 22 मार्च से 12 अप्रैल, 2021 के बीच बुलाया. कई अभ्यर्थियों ने शारीरिक दक्षता जांच की तारीख आगे बढ़ाने का अनुरोध किया. दरअसल, इसके लिए अभ्यर्थियों ने कोरोना संक्रमण का हवाला दिया था. जिसके बाद आयोग ने अनुरोध स्वीकार करते हुए नया एडमिट कार्ड जारी किया. लेकिन अचानक आयोग ने उसे रद्द कर दिया. इस कारण याचिकाकर्ता शारीरिक दक्षता जांच से वंचित कर दिए गए.

नीतीश कैबिनेट का फैसला- पटना के कन्हौली में पाटली नाम से बनेगा नया बस स्टैंड

अब हाई कोर्ट ने इसे मनमाना मानते हुए आयोग का भर्ती प्रक्रिया के मूल अभिलेखों को पेश करने का आदेश दिया है. इस मामले पर अगली सुनवाई चार हफ्ते बाद होगी. बताते चलें कि दारोगा की भर्ती के लिए फिजिकल टेस्ट में गड़बड़ी के बाद पटना हाई कोर्ट ने बिहार पुलिस अधीनस्थ सेवा भर्ती आयोग से दारोगा भर्ती से जुड़े मूल अभिलेखों को कोर्ट में पेश करने का आदेश दिया है. दारोगा भर्ती हेतु प्रारंभिक व मुख्य परीक्षाओं में ये सभी याचिकाकर्ता सफल हुए. उन्हें बोर्ड ने शारीरिक दक्षता जांच हेतु 22 मार्च से 12 अप्रैल, 2021 के बीच बुलाया. कोरोना संक्रमण का हवाला देते हुए कई अभ्यर्थियों ने शारीरिक दक्षता जांच की तारीख आगे बढ़ाने का अनुरोध किया था.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें