जमीन खरीदना आसान लेकिन रजिस्ट्री कराने में निकलेंगे पसीने, 50% तक बढ़ सकता है सर्किल रेट

Smart News Team, Last updated: Sat, 13th Mar 2021, 11:42 AM IST
  • पटना में जमीन की रजिस्ट्री का सर्किल रेट 50 फीसद तक मॅहगी होने वाली है. जिसके लिए ग्रामीण और शहरी दोनों इलाकों में सर्वे किया जा रहा है. शहरी सर्किल रेट ही नहीं ग्रामीण की कृषि योग्य भूमि का भी रजिस्ट्री मंहगी होने वाली है.
जमीन खरीदना आसान लेकिन रजिस्ट्री कराने में निकलेंगे पसीने, 50% तक बढ़ सकता है सर्किल रेट

पटना. पटना में जमीन खरीदना तो आसान है, लेकिन उसकी रजिस्ट्री के लिए अब लोगों को अपनी जेब ज्यादा ढीली करनी पड़ेगी. जी हा अब जमीन की रजिस्ट्री के सर्किल रेट को बढ़ाया जाने वाला है. सिर्फ नगर ही नही कृषि योग्य भूमि का भी रजिस्ट्री का भी शुल्क बढ़ने वाला है. जिसके लिए 12 टीमें सर्वेक्षण कर रही है किस इलाके में कितना सर्किल रेट बढ़ाया जाए. वही माना जा रहा है कि सर्किल रेट में 50 फीसद तो लिंक रोड में 25 से 30 फीसद तक रजिस्ट्री महंगी हो सकती है. 

वही अधिकारियों ने बताया कि निरीक्षण किए जा रहे रिपोर्ट को 31 मार्च तक सरकार के पास भेज दिया जाएगा. राज्य सरकार की तरफ से स्वीकृति मिलने के बाद इसे एक अप्रैल से ही लागू कर दिया जाएगा. अधिकारियों द्वारा किए जा रहे सर्वेक्षण को ग्रामीण व शहरी दोनों इलाकों में किया जा रहा है. जिससे दोनों जगह पर रजिस्ट्री को बढ़ाया जा सके. 

वही जानकारी के अनुसार सर्किल रेट पिछले चार साल बाद बढ़ने वाले है. जिसमे व्यावसायिक मुख्य, टाल, कृषि, अवासीय, मुख्य और आवासीय सहायक सड़को के आधार पर सर्वेक्षण किया जा रहा है. वही इससे पहले 2016-17 में सर्वेक्षण कर रजिस्ट्री को डेढ़ गुना अधिक कर दिया गया था. 

बिहार में दो से ज्यादा बच्चे वाले लड़ सकेंगे पंचायत चुनाव, सोशल मीडिया पर उड़ी अफवाह पर ना दें ध्यान

इसके साथ ही अधिकारियों ने बताया कि व्यावसायिक और अवासीय क्षेत्र के मुख्य मार्गों का शुल्क बढ़ाकर 50 फीसद तक कर दिया जाएगा. इसके साथ ही टाल एवं कृषि योग्य भूमि के सर्किल रेट की रजिस्ट्री को 25 से 30 फीसद तक बढ़ाया जाएगा. जिसके लिए सर्वेक्षण किया जा रहा है. जो 25 मार्च तक पूरा कर लिया जाएगा. जिस पर सरकार की तरफ से अनुमति मिलने के बाद 1 अप्रैल 2021 से लागू कर दिया जाएगा.

NEET एग्जाम की डेट जारी, 1 अगस्त को होगी परीक्षा, जल्द शुरू होगा रजिस्ट्रेशन

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें