पटना: स्वच्छ सर्वेक्षण में पूर्वी भारत में बिहार की राजधानी पटना का 47वां रैंक

Smart News Team, Last updated: 20/08/2020 03:15 PM IST
  • हर साल की तरह इस बार भी भारत सरकार ने स्वच्छ सर्वेक्षण 2020 के परिणामों की घोषणा कर दी है. इसमें बिहार की राजधानी पटना को पूर्वी भारत के शहरों में 47वां रैंक मिला है.
प्रतीकात्मक तस्वीर

पटना. भारत सरकार हर साल स्वच्छ सर्वेक्षण रिपोर्ट जारी करती है. इस बार के स्वच्छ सर्वेक्षण में पूर्वी भारत के शहरों में पटना का 47वां रैंक हैं. इस सूची में पटना शहर को 1552.11 अंक मिले हैं. हालांकि 47 शहरों में सबसे खराब प्रदर्शन करते हुए पटना सबसे निचले पायदान पर है. वहीं देशभर में पटना की रैंकिंग में सुधार हुआ है. इस साल पूरे देश में पटना का स्थान 105 है, जबकि साल 2019 में 318 था और साल 2018 में पटना 309वें रैंक पर था. इस साल के नतीजों को देखते हुए पटना नगर निगम द्वारा साल 2021 में पटना को देश की रैकिंग में टॉप 50 में लाने का लक्ष्य रखा गया है.

पटना: BPSC छात्रों पर लाठीचार्ज, बिहार कांग्रेस अध्यक्ष बोले- लोकतंत्र की हत्या

केंद्रीय आावास एवं शहरी कार्य मंत्रालय द्वारा ‘स्वच्छ महोत्सव’ नाम के कार्यक्रम में इन शहरों की सूची जारी की गई. इस कार्यक्रम में मंत्रालय द्वारा कुल 129 शहरों को पुरस्कार भी दिया गया. स्वच्छ सर्वेक्षण को लेकर पहले खबर थी कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देशभर के शहरों में साफ-सफाई को लेकर इस सर्वेक्षण के  परिणामों की घोषणा करेंगे, लेकिन इस कार्यक्रम में आज वह वर्चुअली शामिल नहीं हो पाए. आज के कार्यक्रम में आवास एवं शहरी कार्य मंत्री हरदीप सिंह पुरी के साथ अलग-अलग शहरों के मेयर, निगम आयुक्त और अन्य पक्षधारक शामिल होंगे.

पटना ट्रैफिक: गांधी सेतु का पूर्वी लेन 20 अगस्त से बंद, नए पुल से दोतरफा मूवमेंट

इस बार स्वच्छ सर्वेक्षण करीब एक महीना चलाक, जिसमें देशभर के एक करोड़ 70 लाख नागरिकों ने स्वच्छता ऐप के जरिए पंजीकरण किया है. लोगों ने अपने-अपने शहरों में स्वच्छता का हाल इस ऐप के जरिए सरकार तक पहुंचाई. जिसके आधार पर ही यह स्वच्छ सर्वेक्षण तैयार किया जाता है. सोशल मीडिया पर इससे 11 करोड़ से भी अधिक लोग जुड़े हैं.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें