पटना: लोगों का घरों के बाहर 'हर घर धरना, घर-घर धरना' कहा- जान दे देंगे, मकान नही

Smart News Team, Last updated: 06/09/2020 05:16 PM IST
  • लखनऊ लोहिया नगर के रेंटल फ्लैट समन्वय समिति ने वर्षो से फंसे लगभग एक हजार फ्लैटों के स्थाई बंदोबस्त के लिए घर घर धरना, हर घर धरना अभियान का आयोजन किया. उन्होंने आरोप लगाया कि सरकान इन फ्लैट में रह रहे दलितों, शोषितों को बेघर करना चाहती है.
रेंटल फ्लैट समन्वय समिति के सदस्य धरना देते हुए

पटना. पटना में रेंटल फ्लैट समन्वय समिति लोहिया नगर ने वर्षो से फंसे लगभग एक हजार फ्लैटों के स्थाई बंदोबस्त के लिए घर घर धरना, हर घर धरना अभियान का आयोजन किया. इस मौके पर समिति के सदस्यों ने बताया कि लगभग 50 साल से स्थायी बंदोबस्त के लिए कंकड़बाग लोहिया नगर स्थित स्लम, विकर सेक्शन, रेंटल और जनता फ्लैट के रहने वालों की यह मांग रही है. बताया कि फ्लैट में रहने वालों को स्थाई बंदोबस्त देने के लिए आवास बोर्ड ने चार बार पत्र लिखकर सरकार से आग्रह किया, लेकिन सरकार ने सिर्फ वादे किए. समिति के सदस्यों ने बताया कि इसमे रहने वाले लोग शोषित, दलित और आर्थिक रूप से कमजोर हैं. अब सरकार इसे तोड़कर बहुमंजिला इमारत बनाना चाहती है. 

पटना में रिकॉर्ड तोड़ ऑनलाइन फ्रॉड, साइबर क्राइम में देश के बड़े शहर पीछे छूटे

एक तरफ सरकार जहां देश मे बेघरों को घर देने की बात कर रही है तो दूसरी तरफ इन स्लम फ्लैट, रेंटल फ्लैट एवं जनता फ्लैटों में रह रहे लोगों को बेघर करने की तैयारी कर चुकी है. समिति के सदस्यों ने बताया कि यह फ्लैट 1960-70 के दशक में गरीब शोषित आर्थिक रूप से कमजोर लोगो को आवंटित किया गया था. जिनके पास LIG MIG HIG फ्लैट के लोगों की तरह पैसे नहीं थे. इन फ्लैटो मेें रहने वाले लोगों का 60 वर्षो से भावनात्मक लगाव है अब उनका कहना है कि जान दे देंगे लेकिन मकान नही देंगे. अपने घर पर ही बैठ कर धरना दे रहे इन फ्लैट में रहने वालों का कहना है स्थाई बंदोबस्ती नही तो वोट नही.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें