श्रद्धालुओं की शिकायत के बाद चरणामृत को लेकर महावीर मंदिर प्रशासन का नया इंतजाम

Smart News Team, Last updated: Thu, 2nd Jul 2020, 8:36 PM IST
  • कोरोना काल में श्रद्धालुओं की शिकायत के बाद महावीर मंदिर प्रशासन ने सेंसर पद्धति से चरणामृत वितरण की प्रक्रिया शुरू की है।
फोटो महावीर मंदिर पटना

पटना. कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए राजधानी के महावीर मंदिर प्रशासन ने श्रद्धालुओं की शिकायत के बाद सेन्सर पद्धति से चरणामृत वितरण की प्रक्रिया शुरू की है। इससे पहले जो पद्धति अपनाई गई थी उसमें एक बार में अंजलि में 10 मि.ली. चरणामृत आता था जिसके अंजलि में कुछ ज्यादा होने के कारण गिरने की आशंका रहती थी।

श्रद्धालुओं की शिकायत करने पर मंदिर प्रशासन ने उसके नीचे एक स्टेनलेस स्टील का पात्र उसको जमा करने के लिए लगाया था और उसे एक पाईप से जोड़ा था। अब पाइप को हटाकर नीचे एक पात्र रख दिया गया है।

महावीर मंदिर में बुधवार शाम से यह नई व्यवस्था लागू की गई है। मंदिर में दो परिवर्तन करे गए हैं जिसमें पहला परिवर्तन है कि अंजलि सेन्सर के नीचे करने पर 10 मिल.ली. के बजाय 5 मि.ली. चरणामृत आये, ताकि अंजलि से बाहर न जाए और दूसरा परिवर्तन है कि पाइप से इसको जल-निकास के लिए जो जोड़ा गया था, उस पाइप को हटाकर नीचे एक पात्र रख दिया गया है।

महावीर मन्दिर प्रशासन ने साफ किया है कि मन्दिर में रोजाना रुद्राभिषेक में शिवजी पर दर्जनों लीटर दूध और जल चढ़ता है उनमें किसी को भी जल-निकास से नहीं जोड़ा गया है बल्कि हरेक शिवलिंग के सामने नीचे पात्र रहता है, जिसमें वह जमा होता है और उसका श्रद्धापर्वूक विसर्जन किया जाता है।

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें