चमत्कार! जिंदा हुआ मुर्दा: दाह संस्कार की तैयारी के बीच हिली ऊंगली, चली सांस

Smart News Team, Last updated: 11/09/2020 04:23 PM IST
  • पटना के कंकड़बाग निजी अस्पताल में मृत घोषित सौरभ की सांसे अचानक चलने लगी. जिसके बाद मरीज को आनन-फानन में से पीएमसीएच में भर्ती कराया गया.
पटना में मृत घोषित व्यक्ति की सांसे अचानक चलने लगीं.

पटना. पटना के कंकड़बाग के निजी अस्पताल में मृत घोषित सौरभ की घर पर सांसे अचानक चलने लगी. आनन-फानन में परिजनों ने सौरभ को पीएमसीएच में भर्ती कराया जहां उसकी स्थिति गंभीर बनी हुई है.

हरदास बीघा के कटौना गांव के सौरभ को कंकड़बाग के निजी अस्पताल में मृत घोषित करने के बाद युवक को परिजनों को सौंप दिया गया. धोखे से डेथ सर्टिफिकेट की बजाय रेफर का कागज थमा दिया .बेचारे परिजन शव समझ कर युवक को घर ले आए और घर पर दाह संस्कार की तैयारी चल रही थी. उसकी अर्थी पूरी तरह सज गई थी. घर पर परिजनों का रो रोकर बुरा हाल था. 

परिजन उसकी अर्थी को गंगा किनारे घाट पर जलाने ले जाने वाले ही थे लेकिन अचानक अर्थी पर पड़े सौरभ की उंगलियां हिलने लगी और धड़कनें चलने लगी. सौरभ की आंखें भी कुछ देर के लिए खुली. इतना देख परिजन में उत्साह जागा और आनन-फानन में उसे पीएमसीएच लेकर आए.  

राज्यसभा के उपसभापति पद के लिए RJD सांसद मनोज झा ने दाखिल किया नामांकन

पीएमसीएच के इमरजेंसी सौरभ का इलाज चल रहा है .इमरजेंसी के प्रभारी डॉ अभिजीत सिंह ने बताया कि जब सौरभ यहां पहुंचा था तब उसकी सांसे चल रही थी लेकिन वह बेहोश था .शरीर में हल्की हलचल थी . हालांकि अभी भी उसकी स्थिति गंभीर बनी हुई है डॉक्टरों की टीम से बचाने का पूरा प्रयास कर रही है. 

पटना: कोरोना काल में खुशखबरी! स्वास्थ्य कैडर में होगी 3186 डॉक्टरों की नियुक्ति

सौरभ को कंकड़बाग के निजी अस्पताल में 7 सितंबर की रात 10:00 बजे भर्ती कराया गया था. सड़क दुर्घटना में घायल हुआ था. लगभग दो लाख का बिल चुकाने के बाद अस्पताल ने अपने हाथ खड़े कर दिए. उसे वेंटिलेटर पर रखा गया था बाद में वेंटिलेटर से उतारकर बॉडी को पैक करके एंबुलेंस में डाला गया जबकि धोखे से सर्टिफिकेट पर रेफर लिख दिया गया था. 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें