PMCH समेत राज्यभर में हड़ताल पर गए इंटर्न डॉक्टर्स, सरकार के सामने वेतन वृद्धि की रखी मांग

Somya Sri, Last updated: Wed, 27th Oct 2021, 12:57 PM IST
  • बिहार में पीएमसीएच समेत राज्यभर के एमबीबीएस मेडिकल इंटर्न डॉक्टर हड़ताल पर चले गए हैं. इंटर्न डॉक्टरों की मांग है कि उनकी सैलरी में वृद्धि किया जाए. उनका कहना है कि जबतक उन्हें सैलेरी वृद्धि को लेकर कोई आश्वासन नहीं दिया जाएगा. वे हड़ताल खत्म नहीं करेंगे. इस दौरान ओपीडी और अन्य कुछ विभागों में इलाज बाधित है.
PMCH समेत राज्यभर में हड़ताल पर गए इंटर्न डॉक्टर्स, सरकार के सामने वेतन वृद्धि की रखी मांग (फाइल फोटो)

पटना: बिहार के सबसे बड़े सरकारी अस्पताल पीएमसीएच समेत राज्यभर के एमबीबीएस मेडिकल इंटर्न डॉक्टर हड़ताल पर चले गए हैं. इंटर्न डॉक्टरों की मांग है कि उनकी सैलरी में वृद्धि किया जाए. इसके लिए वे धरने पर बैठ गए हैं. उनका कहना है कि जबतक उन्हें सैलेरी वृद्धि को लेकर कोई आश्वासन नहीं दिया जाएगा. वे हड़ताल खत्म नहीं करेंगे. जिस वजह से ओपीडी और अन्य कुछ विभागों में इलाज बाधित हो रही है. कई मरीज इलाज नहीं होने के कारण वापस घर लौट रहे हैं.

बता दें कि यह पहला मौका नहीं है जब पीएमसीएच में डॉक्टर्स की ओर से स्टाइपेंड या सैलरी बढ़ाने को लेकर हड़ताल किया जा रहा है. इससे पहले भी सैलरी बढ़ाने की मांग को लेकर जूनियर डॉक्टरों ने हड़ताल की थी. हालांकि इस बार इंटर्न स्टूडेंट अपनी मांग पर अड़ गए हैं. उनका कहना है कि जबतक उन्हें सैलेरी वृद्धि को लेकर कोई आश्वासन नहीं दिया जाएगा. वे हड़ताल खत्म नहीं करेंगे. बताया जा रहा है कि पीएमसीएच समेत राज्य भर के एमबीबीएस मेडिकल इंटर्न डॉक्टर्स हड़ताल पर हैं. वे धरना दे रहे हैं. इस दौरान अस्पतालों में इलाज बाधित हो रही है. लोग बिन इलाज के ही वापस घर लौट रहे हैं.

लालू यादव का लौटा सियासी रंग, बिहार उपचुनाव के लिए तारापुर और कुशेश्वरस्थान में आज करेंगे सभा

बता दें कि एमबीबीएस मेडिकल इंटर्न डॉक्टर्स का हड़ताल कबतक चलेगा. इस बारे में अबतक कोई सूचना नहीं आई है. कहा जा रहा है कि अगर लंबे समय तक इंटर्न डॉक्टर्स हड़ताल पर रहेंगे तो अस्पतालों में और पीएमसीएच में इलाज बाधित रहेगी. जिससे लोगों को काफी मुश्किल हो सकती है. हड़ताल के दौरान इमेरजेंसी मरीजों का ध्यान रखना बेहद जरूरी हो जाएगा. इन सब के बीच इंटर्न डॉक्टर्स अड़ गए हैं कि उनकी सैलेरी वृद्धि की जाए तभी वे काम पर लौटेंगे.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें