पटना नगर निगम का फैसला- कोविड से मरे मरीजों का अंतिम संस्कार होगा मुफ्त

Smart News Team, Last updated: Mon, 19th Apr 2021, 10:40 AM IST
  • इससे पहले लकड़ी से अंतिम संस्कार करने के लिए 10500 रूपए देने पड़ते थे. लेकिन अब विद्युत शवदाह गृह हो या फिर लकड़ी से अंतिम संस्कार दोनों को नि:शुल्क कर दिया गया है. इसके लिए तीन शिफ्ट में बांस घाट पर नगर निगम के कर्मियों की तैनाती भी की गई है. अगर किसी तरह की कोई परेशानी या फिर कोई पैसा मांगता है तो परिजन इसकी शिकायत नंबर पर कर सकते हैं.
अब कोरोना से मरे लोगों के अंतिम संस्कार के लिए पैसे नहीं देने पड़ेंगे. (प्रतिकात्मक फोटो)

पटना- पटना नगर निगम ने मृतकों के परिजनों को राहत दी है. अब कोरोना से मरे लोगों के अंतिम संस्कार के लिए लकड़ियों का पैसा अब मृतक के परिजनों को नहीं देना होगा. निगम ने लकड़ी का पैसा लेने पर शनिवार से रोक लगा दी है. दाह संस्कार के लिए लकड़ी का सारा खर्च अब पटना नगर निगम देगा.

बताते चलें कि इससे पहले लकड़ी से अंतिम संस्कार करने के लिए 10500 रूपए देने पड़ते थे. लेकिन अब विद्युत शवदाह गृह हो या फिर लकड़ी से अंतिम संस्कार दोनों को नि:शुल्क कर दिया गया है. इसके लिए तीन शिफ्ट में बांस घाट पर नगर निगम के कर्मियों की तैनाती भी की गई है. अगर किसी तरह की कोई परेशानी या फिर कोई पैसा मांगता है तो परिजन इसकी शिकायत नंबर पर कर सकते हैं.

नीतीश सरकार ने कोविड मरीजों के इलाज के लिए फीस की तय, मनचाही फीस वसूलने वालों पर रखेगी नजर

बता दें कि जहां एक तरफ सरकार और स्वास्थ्य विभाग की टीम सुरक्षा को लेकर कई सारे कदम उठा रही है. वहीं, बांस घाट के बाहर सड़कों पर पीपीइ कीट, मास्क समेत अन्य संक्रमित वस्तु लावारिश हालात में इधर-उधर फेंका पड़ा है. जब इस बात की जानकारी जब वहां मौजूद नगर निगम के अधिकारियों को मिली तो वे बाहर निकल सफाईकर्मियों को फटकार लगाई. जिसके बाद साफ-सफाई शुरू हुई.

अर्धनग्न अवस्था में बुजुर्ग महिला थाने पहुंची, रोते हुए लगाई गुहार, जानें मामला

बिशप स्कॉट स्कूल के प्रबंध निदेशक शैलेश और PMCH के रिटायर्ट डॉ. ललन की कोरोना से मौत

पटना: दो डांसर से जबरन देह व्यापार कराना चाहता था आरोपी, मना करने पर किया रेप

चारा घोटाला मामले में लालू यादव को मिली जमानत, जेल से बाहर आने के लिए तैयार

बिहार में कोरोना का हाहाकार, पटना और मुजफ्फरपुर में टूटे रिकॉर्ड, जानें पूरा हाल

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें