पटना हाइकोर्ट की पहल, नगर निगम सफाईकर्मियों की हड़ताल खत्म, सरकार वेतन दे

Smart News Team, Last updated: 11/09/2020 05:15 PM IST
  • पटना में गुरूवार को लगभग 8 हजार सफाई कर्मचारी अनिश्चितकाली हड़ताल पर चले गए थे. पटना हाइकोर्ट के पहल के बाद सफाईकर्मियों ने अपनी हड़ताल समाप्त कर दी. पटना हाइकोर्ट ने सरकार को आदेश दिया कि सोमवार तक कर्मचारियों को चार महीने का वेतन दे दिया जाए.
पटना नगर निगम सफाई कर्मचारियों की हड़ताल खत्म.

पटना. पटना नगर निगम के सफाईकर्मियों की हड़ताल पटना हाईकोर्ट की पहल से खत्म हो गई. आपको बता दें कि गुरूवार को लगभग 8 हजार सफाई कर्मचारी अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले गए थे. जिससे पूरे शहर में जगह-जगह पर कूड़े का अंबार लग गया था. इस हड़ताल में स्थायी और अस्थाई कर्मचारी दोनों शामिल थे.

पटना हाईकोर्ट ने सरकार को आदेश दिया कि सोमवार तक कर्मचारियों को चार महीने का वेतन दे दिया जाए. इसके अलावा हाइकोर्ट ने कहा कि सफाईकर्मियों की मांगों पर बातचीत की जाए और 29 सितंबर तक इसका समाधान निकाल लिया जाए. पटना नगर निगम कर्मचारी संयुक्त समन्वय समिति का कहना है कि 8 फरवरी 2020 को नगर विकास विभाग के प्रधान सचिव के साथ समझौता हुआ था. जिसमें तय हुआ था कि दैनिक मजदूर ही निकाय के कर्मी रहेंगे लेकिन नगर निगम ने उस समझौते को तोड़ दिया है. 

चमत्कार! जिंदा हुआ मुर्दा: दाह संस्कार की तैयारी के बीच हिली ऊंगली, चली सांस

नगर निगम के कर्मियों की मांग है कि दैनिक मजदूरों को नियमित किया जाए, दैनिक मजदूरों का न्यूनतम वेतन, निगम के प्रभारी कर्मियों का उसी पद पर स्थायी किया जाए, श्रम कानूनों के तहत सभी सुविधाएं मुहैया हों, सेवानिवृत्ति के समय ही भुगतान हो, निगम कर्मियों के बकाए का भुगतान किया जाए, दैनिक मजदूरों के भविष्य निधि का हिसाब हो और कोविड-19 से संबंधित प्रोत्साहन राशि कम से कम 10,000 रुपये सभी निगम कर्मियों को दिए जाएं. 

राज्यसभा के उपसभापति पद के लिए RJD सांसद मनोज झा ने दाखिल किया नामांकन

इन मांगों को लेकर सफाईकर्मियों ने 14 दिन पहले नगर निगम को हड़ताल की सूचना दे दी थी. जिसके बाद गुरूवार को लगभग 8 हजार सफाई कर्मचारी हड़ताल पर चले गए. जिससे पूरा शहर कूड़े से भर गया. सिर्फ गुरूवार को ही हड़ताल की वजह से शहर में 984 मीट्रिक टन कूड़ा पड़ा रहा. 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें