फिर बच गई पटना मेयर सीता साहू की कुर्सी, अविश्वास प्रस्ताव गिरा

Smart News Team, Last updated: Sun, 8th Aug 2021, 10:09 AM IST
  • पटना मेयर सीता साहू के खिलाफ फिर से अविश्वास प्रस्ताव लाया गया और इस अविश्वास प्रस्ताव में महापौर को 3 वोटों से जीत मिली है. इस प्रस्ताव के लिए कुल 74 पार्षदों में से 30 पार्षद ही उपस्थित हुए और 44 पार्षद विशेष बैठक में शामिल ही नहीं हुए.
टना मेयर सीता साहू को अविश्वास प्रस्ताव में मिली जीत

पटना. बिहार की राजधानी पटना की नगर निगम महापौर सीता साहू के खिलाफ एक बार फिर से अविश्वास प्रस्ताव लाया गया. डिप्टी मेयर मीरा कुमारी को हराने वाली महापौर सीता साहू ने अपने खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पारित नहीं होने दिया. बांकीपुर अंचल कार्यालय सभागार में महापौर के खिलाफ लाए गए अविश्वास प्रस्ताव पर काफी देर चर्चा के बाद मतदान हुआ. इस मतदान में पटना नगर निगम सीता साहू को 3 वोट से जीत मिली है और एक बार फिर से अपनी कुर्सी बचाने में सीता साहू कामयाब रही हैं. सीता साहू के खिलाफ पिछले साढ़े चार साल में तीसरी बार अविश्वास प्रस्ताव आया है लेकिन पटना महापौर ने उसे पारित नहीं होने दिया है.

मनोज जायसवाल की अध्यक्षता में हुई बैठक में इस अविश्वास प्रस्ताव के लिए 74 पार्षदों में से 30 पार्षद ही उपस्थित हुए और इनमें से 23 पार्षदों ने वोट नहीं डाले. सात पार्षदों ने अविश्वास प्रस्ताव पर मतदान किया जिसमें जिसमें 5 वोट अविश्वास प्रस्ताव के विरोध में और मात्र 2 वोट अविश्वास प्रस्ताव के पक्ष में पड़े. इस मतदान के बाद एक बार फिर से महापौर की कुर्सी बच गई.

महापौर सीता साहू ने अविश्वास प्रस्ताव गिरने के बाद कहा कि विकास की जीत हुई है. नगर निगम क्षेत्र के सभी वार्ड और पार्षद मेरे लिए एक समान हैं. जिन पार्षदों ने मेरे पक्ष में वोट किया उन्हें भी धन्यवाद करती हूं और जिन्होंने मेरे खिलाफ वोट किया, उनका भी सम्मान करती हूं. 

अब डिप्टी मेयर मीरा देवी को निपटाने वालीं महापौर सीता साहू के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव

बता दें पटना महापौर सीता साहू पर अविश्वास प्रस्ताव लाते समय आरोप लगा कि निगम में विकास नहीं हुआ है, अगर विकास हुआ है तो वह सिर्फ महापौर के वार्ड में हुआ है. इस आरोप पर महापौर सीता साहू ने जवाब देते हुए कहा कि चार वर्षों में निगम में बहुत सारे कार्य हुए हैं सभी वार्डों में कच्ची-नली गली की 2500 योजनाएं पूरी हुई हैं.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें