पटना नगर निगम ने होटल, स्कूल, बाजार, मोहल्लों को दी स्वच्छता रैंकिंग, देखें

Smart News Team, Last updated: 13/12/2020 05:11 PM IST
पटना नगर निगम ने अपने कर्मचारियों के जरिए शहर के कुछ होटलों, स्कूलों, बाजारों, सरकारी दफ्तरों और मोहल्लों में छह मानदंडों पर रविवार को रैंकिंग दी. जिन्हें पहले, दूसरे और तीसरे पायदान पर आने वाले को पटना महापौर, नगर आयुक्त और नगर उपायुक्त ने सम्मानित करने का काम किया. 
पटना नगर निगम में स्कूल से लेकर बाजार समिति को पटना महापौर, आयुक्त और उपायुक्त ने सम्मानित किया.

पटना: नगर निगम ने होटलों, अस्पतालों, सरकारी कार्यालयों, स्कूलों, बाजार समितियों और आवसीय परिसरों में छह मापदंडों पर सर्वेक्षण के आधार पर रविवार को तीन क्रम में रैंकिंग जारी की. इनमें आए नामों को नगर महापौर सीता साहू, अपर नगर आयुक्त हिमांशु शर्मा और अपर नायुक्त देवेंद्र प्रसाद तिवारी ने सम्मानित करने का काम किया. इनमें वे जगह शामिल थीं जहां स्वच्छता, पार्किंग सुविधा, कचरे का अच्छी तरीके से निपटान, कोविड-19 का अनुपालन, शौचालयों में स्वच्छता और पानी का उचित मात्रा में उपयोग सही से होता दिखा.

इस दौरान स्वच्छ होटलों में पहला स्थान का तमगा होटल पाटलिपुत्र कॉन्टिनेंटल (अनीसाबाद) को मिला. वहीं, दूसरे स्थान पर रहा होटल मौर्य (गांधी मैदान) और तीसरे पायदान पर होटल अमाल्फी ग्रांड (बेली रोड) रहा. इसके साथ ही स्वच्छ बाजार में प्रथम पी एंड एम मॉल (कुर्जी), दूसरा पटना सेंट्रल मॉल (फ्रेजर रोड) और तीसरा स्थान पटना वन मॉल (डाकबंगला रोड) ने काबिज किया. स्वच्छ स्कूलों में नोट्रेडेम एकैडमी (पाटलिपुत्र), दूसरा सेंट माइकल एकैडमी (दीघा) और तीसरे स्थान पर लोयला स्कूल (कुर्जी) रहा.

कानून व्यवस्था को लेकर CM नीतीश कुमार ने की बैठक, अधिकारियों को दिए सख्त निर्देश

वहीं, आवासीय परिसरों में पहला आरा गाडेन रेसिडेंसी (जगदेव पथ), दूसरे पर टेरेंस गार्डेनिया अपार्टमेंट आशियाना (दीघा रोड) और तीसरा नंबर देवेंद्र रेसिडेंसी (राजेंद्र नगर) का रहा. इनके अलावा सरकारी कार्यालयों में पहले पर पावर ग्रिड कॉर्पोरेशन (शास्त्रीनगर), दूसरे पर अरण्य भवन (बेली रोड) और तीसरे पर सरदार पटेल भवन (शेखपुरा) को स्वच्छता की दौड़ में विजयी घोषित किया गया. 

पटना: नए कृषि कानून के समर्थन में बीजेपी किसानों को करेगी एकजुट, पटना से शुरुआत

इन प्रतिष्ठानों के बीच प्रतिसपर्धा कराकर नगर निगम ने प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से सर्वेक्षण कराया था. जिससे इनके बीच ऐसा माहौल पैदा किया जाए जिससे ये खुद अपने-अपने स्तर से व्यवस्था में सुधार कर लें.  आपको बता दें कि इन जगहों पर नगर निगम कर्मियों ने औचक सर्वेक्षण किया और तय मापदंड के आधार पर इनका मूल्यांकन किया गया .

RJD सुप्रीमो की बिगड़ी तबियत, किडनी कर रही 25 फीसदी काम, डॉक्टर बोले हालत खराब

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें