पटना

कोरोना काल में भी मनमानी? पटना के हॉस्टल-लॉज के मालिक रेंट के लिए कर रहे परेशान

Smart News Team, Last updated: 15/06/2020 12:46 PM IST
कोरोना अनलॉक-1 की घोषणा के साथ इन हॉस्टल मालिकों की मनमानी बढ़ गई है। हॉस्टल मालिक छात्र-छात्राओं को रेंट के लिए परेशान कर रहे हैं। इनमें गर्ल्स लॉज वाले सबसे आगे हैं।
प्रतीकात्मक तस्वीर

कोरोना लॉकडाउन की वजह से हर किसी को मुसीबतों से दो-चार होना पड़ रहा है। कोरोना संकट में हॉस्टल-लॉज और मकान मालिक किराएदार पर जरा भी रहम नहीं दिखाना चाहते हैं। कोरोना अनलॉक-1 की घोषणा के साथ इन हॉस्टल मालिकों की मनमानी बढ़ गई है। हॉस्टल मालिक छात्र-छात्राओं को रेंट के लिए परेशान कर रहे हैं। इनमें गर्ल्स लॉज वाले सबसे आगे हैं। लॉकडाउन के समय छात्राओं को सामान खाली करके घर जाने नहीं दिया गया और अब इनसे तीन महीने का रेंट मांग रहे हैं। कुछ मालिक तो ऑनलाइन पेमेंट की हिदायत देकर धमकी भी दे रहे हैं।

एक पैसे भी छोड़ने को तैयार नहीं हैं संचालक

संचालक मासिक शुल्क में एक पैसे भी छोड़ने के लिए तैयार नहीं हैं। छात्राओं के लिए अब समस्या यह है कि इतने पैसे एकमुश्त कहा से दें। मुसल्लहपुर हाट की रहने वाली प्रीति बताती हैं कि जब हमलोग घर के लिए निकल रहे थे तब ऑनर ने सामान लेकर जाने नहीं दिया अब तीन महीने के पूरे पैसे मांग रहे हैं। वहीं संचालक सरकार की आड़ लेकर जल्द से जल्द अब पैसा वसूलना चाह रहे हैं। भिखना पहाड़ी के लॉज संचालक सुमित कुमार ने बताया कि इस बाबत सरकार ने ऐसा कोई सर्कुलर जारी नहीं किया है। इसलिए हमलोग पैसा पूरा लेंगे। छात्राएं इनसे पचास प्रतिशत छूट भी मांग रही हैं तो ये नहीं मान रहे हैं।

राजधानी के युवा कैंपेन के जरिये चाह रहे फी माफी

युवा हल्ला बोल की तरफ से नो रेंट फॉर स्टूडेंट कैम्पेन भी ट्विटर पर ट्रेंड कर रहा है। हॉस्टल और लॉज में रहने वाले स्टूडेंट की फी माफी के लिए छात्र नेताओं ने सुप्रीम कोर्ट में पिछले दिनों याचिका दायर की है।देश भर में यह अभियान चल रहा है, जिसमें राजधानी के युवा भी पीछे नहीं हैं। अभियान का नेतृत्व कर रहे रजनीश झा बताते हैं कि छात्रइस स्थिति में नहीं हैं कि एकमुश्त तीन महीने के पैसे भर पाएं। इसलिए हमलोग इस कैम्पेन के जरिये स्टूडेंट के लिए फी माफी चाहते हैं। इसके लिए हमलोगों ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की है।

अन्य खबरें