पटना

RTI में खुलासा, केंद्रीय विद्यालयों में टीचिंग व नॉन टीचिंग के हजारों पद खाली

Smart News Team, Last updated: 07/06/2020 05:43 PM IST
  • एक आरटीआई में खुलासा हुआ है कि देशभर के हजारों केंद्रीय विद्यालयों में शिक्षक, लाइब्रेरियन और नॉन टीचिंग स्टाफ के हजारों पद रिक्त हैं मगर अब तक इन पदों पर नियुक्ति नहीं हुई है।
सांकेतिक तस्वीर

पटना, अभिषेक कुमार

देशभर के केंद्रीय विद्यालयों में शिक्षकों के हजारों पद खाली हैं, मगगर अब तक इनके लिए वैकेंसी नहीं निकाली गई है और जैसे-तैसे काम चल रहा है। एक आरटीआई में खुलासा हुआ है कि देशभर के हजारों  केंद्रीय विद्यालयों में शिक्षक, लाइब्रेरियन और नॉन टीचिंग स्टाफ के हजारों पद रिक्त हैं मगर अब तक इन पदों पर नियुक्ति नहीं हुई है। इस वजह से दस हजार से अधिक पद खाली पड़े हैं। वहीं नॉन टीचिंग के साढ़े चार हजार पद रिक्त हैं। 

सूचना के अधिकार के तहत मिली जानकारी के मुताबिक, देशभर के सभी केंद्रीय विद्यालयों में सीटों की संख्या का पता चल गया। एक जनवरी 2020 तक विभिन्न पदों पर 10 हजार से अधिक सीटें केंद्रीय विद्यालयों में खाली पड़ी थी। मई तक इसकी संख्या में कुछ और बढ़ोतरी हुई है। यह जानकारी केंद्रीय विद्यालय संगठन ने दीपांकर गौरव द्वारा आरटीआई के तहत मांगी गई सूचना में दी है। आरटीआई के जवाब में केंद्रीय विद्यालय संगठन के सहायक आयुक्त विमलेश कुमार सिंह ने बताया कि विभिन्न पदों पर 59,496 सीटों के विरुद्ध 49,346 सीटें ही भरी हैं। शेष 10,150 सीटें रिक्त पड़ी हैं।

लाइब्रेरियन सहित शिक्षकों के पद भी हैं रिक्त

केंद्रीय विद्यालयों में प्रिंसिपल, हेडमास्टरों की कुल 594 सीटें रिक्त हैं। इसी प्रकार विभिन्न विषयों में पीजीटी के 926 सीटें खाली हैं, जिसमें स्नातकोत्तर के साथ बीएड कर चुके छात्रों की बहाली की जा सकती है। वही टीजीटी के 1698 शिक्षकों की सीटें रिक्त है। वहीं लाइब्रेरियन की सीटें भी काफी संख्या में रिक्त पड़ी हैं। नौकरी की तलाश कर रहे युवाओं के लिए केंद्रीय विद्यालय में बड़ा अवसर है। केंद्रीय विद्यालयों में गैर शैक्षणिक कर्मचारियों के भी बड़ी संख्या में पद खाली पड़े हैं। 1 फरवरी 2020 तक नॉन टीचिंग स्टॉफ के 4781 पद रिक्त पड़े थे।

अन्य खबरें