पटना

AC मैकेनिक बन फ्लैटों में चोरी करने वाले गिरोह का पर्दाफाश, ऐसे करता था हाथ साफ

Smart News Team, Last updated: 04/06/2020 09:23 PM IST
  • कोरोना लॉकडाउन में पटना पुलिस की स्पेशल टीम ने एक ऐसे गिरोह का पर्दाफाश किया है, जो एसी मैकेनिक बनकर फ्लैटों में चोरी किया करता था।
बीबीए की छात्रा को राजधानी के पॉश इलाके से कट्टा लगाकर अगवा करने के बाद उसके साथ रेप करने की घटना की जांच-पड़ताल करती पुलिस।

कोरोना लॉकडाउन में पटना पुलिस की स्पेशल टीम ने एक ऐसे गिरोह का पर्दाफाश किया है, जो एसी मैकेनिक बनकर फ्लैटों में चोरी किया करता था। पूर्व केंद्रीय राज्यमंत्री और रालोसपा के मुखिया उपेंद्र कुशवाहा के फ्लैट समेत पटना के करीब दर्जनफर से अधिक फ्लैटों में दिनदहाड़े चोरी करने वाले गैंग के 6 लोगों को पटना पुलिस की विशेष टीम ने गिरफ्तार किया है। एसी मैकेनिक बनकर चोरी करने वाले इन गिरोह में रजा, कैफी, आरजू, अफसर अहमद, गुड्डु कुमार और विजय कुमार उर्फ मंटा का नाम शामिल है, जिन्हें पटना जिले के अलग-अलग इलाकों से गिरफ्तार किया गया है। ये सभी सुल्तानगंज के रहने वाले हैं और खुद को एसी और टीवी मैकेनिक बताकर अपार्टमेंट के गार्ड को चकमा देते थे और फ्लैट में चोरी की घटना को अंजाम देते थे।

गैंग के पास से पैसे और सोने-चांदी बरामद

पुलिस ने कहा कि पटना के कदमकुआं के संजय ज्वेलर्स और महेंद्रू पोस्ट ऑफिस के पास पूजा ज्वेलर्स में चोरी के गहने बेचते थे। पुलिस के हत्थे चढ़ा विजय चोरी का सामान खरीदता था। एसएसपी उपेंद्र शर्मा ने कहा, 'इस गैंग के पास से हथियार के अलावा 1.80 लाख रुपये, ढाई लाख के सोने-चांदी के गहने व अन्य सामान बरामद किए गए हैं। बीते 10 मई को चोरों ने पूर्व केंद्रीय मंत्री उपेंद्र कुशवाहा के जगदेव आशियाना अपार्टमेंट स्थित फ्लैट में भी चोरी की थी।'

सीसीटीवी कैमरा बना पुलिस का हथियार

पटना में दिनदहाड़े अपार्टमेंट के फ्लैटों में चोरी की घटनाओं के बाद पुलिस के लिए सबसे बड़ी चुनौती थी कि इस गिरोह को कैसे पकड़ा जाए। कई मामले आने के बाद पुलिस छानबीन में जुटी हुई थी कि तभी जक्कनपुर के करबिगहिया में फिर चोरी हो गई। यहां एक अपार्टमेंट में रहने वाले प्रोफेसर के फ्लैट में चोरों ने दिनदहाड़े हाथ साफ कर दिया। मगर जांच के दौरान वहां लगे सीसीटीवी कैमरे में पुलिस को चोरी कर भाग रहे अपराधियों की फुटेज मिल गई। इसी फुटेज के आधार पर पुलिस ने चोरों की पहचान की। जक्कनपुर थानेदार मुकेश वर्मा और स्पेशल सेल के इंस्पेक्टर विनय प्रकाश के नेतृत्व में छापेमारी की गयी।

साथी को फ्लैट मालिक बता गार्ड से कराता था बात

पुलिस पूछताछ के गिरोह ने कई हैरान करने वाले खुलासे किए हैं। पूछताछ में यह बात सामने आई है कि अपार्टमेंट में घुसने के दौरान वहां के गार्ड उन्हें रोक देते थे। ऐसी स्थिति में अपराधी बड़ी चालाकी से अपने ही एक साथी को फोन कर उसकी बात गार्ड से कराते थे। चोरों का साथी खुद को फ्लैट मालिक बताकर उन्हें जाने देने की परमिशन देता था। फिर चोरों का गैंग खुद को एसी या टीवी मैकेनिक बताकर फ्लैट में घुस चोरी करता था।

जानें कहां-कहां कर चुके हैं हाथ साफ

पटना के साकेत प्लाजा गांधी मैदान, जगधानो रेसीडेंसी राजीवनगर , जगदेव आशियाना अपार्टमेंट राजीवनगर, अयाची अपार्टमेंट कृष्णापुरी, अरमान अपार्टमेंट बेऊर, मेरिडियन एसएस बिहार अपार्टमेंट जक्कनपुर, वासुदेवन अपार्टमेंट एसके पुरी, शांति लक्ष्मी वासुदेव अपार्टमेंट अगमकुआं।

गिरोह के पास ये सामान हुए बरामद

इस गिरोह के पास से एक कट्टा, एक मैग्जीन, पांच गोलियां, तीन बाइक, दो किलो चांदी के आभूषण, 51 ग्राम सोना, 300 ग्राम स्वर्ण जैसे आभूषण, एक लाख 80 हजार रुपये, सात मोबाइल और ताला तोड़ने के उपकरण बरामद किए गए हैं।

अन्य खबरें