पटना स्कूल एडमिशन शुरू, कोरोना से बचाव के लिए खुले आसमान में बच्चों का इंटरैक्शन

Smart News Team, Last updated: 05/02/2021 11:08 PM IST
  • डीएवी बीएसईबी स्कूल में अभिभावकों से खुले आसमान से इंट्ररैक्शन किया गया. इसका उद्देश्य अभिभावकों को कोरोना संक्रमण से बचाना था. सोशल डिस्टेंसिंग के सारे नियमों का पालन किया गया. साथ ही बच्चें के स्वागत के लिए सजावट का भी पूरा ख्याल रखा गया. आवेदन के बाद 11 फरवरी को रिजल्ट दिया जाएगा जिसमें तय होगा कि किन बच्चों को एडमिशन मिलेगा.
स्कूलों में एडमीशन के लिए अभिभावकों से खुले आसमान से इंट्ररैक्शन किया गया.

पटना. पटना के स्कूलों में एडमीशन शुरू हो गया जिसको लेकर डीएवी बीएसईबी स्कूल में अभिभावकों से खुले आसमान से इंट्ररैक्शन किया गया. इसका उद्देश्य अभिभावकों को कोरोना संक्रमण से बचाना था. सोशल डिस्टेंसिंग के सारे नियमों का पालन किया गया. साथ ही बच्चें के स्वागत के लिए सजावट का भी पूरा ख्याल रखा गया. आवेदन के बाद 11 फरवरी को रिजल्ट दिया जाएगा जिसमें तय होगा कि किन बच्चों को एडमिशन मिलेगा.

एडमिशन पर बात करते हुए स्कूल के प्राचार्य वीएस ओझा ने कहा कि रिजल्ट की घोषणा 11 फरवरी को की जाएगी. करीब शाम चार बजे इस वेबसाइट पर उतारा देख सकते हैं को जारी. इसके अलाव अन्य कक्षाएं यूकेजी के लिए आठ और पहली कक्षा के लिए नौ फरवरी को लिखित परीक्षा का आयोजन स्कूल में किया जाएगा. इंटरैक्शन से पहले काफी सारी तैयारियां की गई जिसके तहत स्कूल के खेल के मैदान में अभिभावक और बच्चों को अलग-अलग बैठाया गया था. कोरोना संक्रमण को देखते हुए इस बात का ध्यान रखा गया कि शिक्षक और अभिभावक में इंटरैक्शन के दौरान सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन हो. इसके लिए वहां 18 काउंटर बनाये गये ताकि हर काउंटर एक समय में एक अभिभावक को बुलाया जाए.

JDU अध्यक्ष आरसीपी सिंह बोले- बिहार चुनाव में चिराग पासवान की LJP ने घृणित काम किया

बता दे की डीएवी बीएसईबी स्कूल बच्चों के एडमीशन के लिए 456 अभिभावकों ने ऑनलाइन और ऑफलाइन आवेदन दिया था जिसमें से केवल 120 बच्चों का एडमिशन किया जाना है. वैसे स्कूल में  कुल 160 सीटों है जिनमें एलकेजी में एडमिशन किया जाता है. शिक्षा के अधिकार के तहत 40 सीटें ऐसी जिन पर 25 फीसदी कोटे के तहत नामांकन किया जाना है. 

बिहार मंत्रिमंडल का विस्तार बहुत जल्द, CM नीतीश कुमार करेंगे ऐलान: डिप्टी सीएम

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें