कोरोना के बीच स्कूल खुलने को तैयार, इन बातों का ध्यान रख भेजे बच्चों को स्कूल

Smart News Team, Last updated: Sat, 19th Sep 2020, 11:05 AM IST
  • कोरोना वायरस की वजह से लगे लंबे लॉकडाउन के बाद अनलॉक 4 में केंद्र सरकार ने 21 सितंबर से स्कूलों को खुलने की इजाजत दे दी है. इसके लिए बिहार की राजधानी पटना में स्कूल गाइडलाइन के अनुसार खुलने की तैयारी कर रहे हैं. 
कोरोना के बीच स्कूल खुलने को तैयार

पटना. कोरोना के बीच बिहार की राजधानी पटना में केन्द्र सरकार के अनलॉक 4 के गाइडलाइन के अनुसार 21 सितंबर में स्कूल खुलने की तैयारी में हैं. कक्षा 10वीं और 12वीं के छात्रों के लिए अनलॉक 4 में खोलने की अनुमति दी गई है. इसमें कहा गया था कि अभिभावक की अनुमति से इन कक्षाओं के बच्चे स्कूल जा सकेंगे. लेकिन इसके साथ ही केन्द्र सरकार ने यह भी स्पष्ट कर दिया था कि स्कूल खोलना अनिवार्य नहीं होगा. इस मामले में केन्द्र ने यह फैसला राज्यों के ऊपर छोड़ दिया है. इस बीच बिहार समेत कई राज्यों ने जानकारी दी है कि वह 21 सितंबर से स्कूल खोलने पर विचार कर रहे हैं. 

स्कूल तो 21 सितंबर से खुल जाएंगे लेकिन कुछ ऐसे होगी कोरोना काल में पढ़ाई

बता दें कि अगर 10वीं और 12वीं के बच्चों के लिए स्कूल राजधानी में स्कूल खोले जाएंगे तो उसमें पहले के मुकाबले कई चीजें बदली हुई रहेंगी. स्कूल में जगह-जगह सेनेटाइजर की व्यवस्था होगी. हर समय स्कूल के टीचर से लेकर बच्चों और किसी भी स्टाफ को सोशल डिस्टेंसिंग का कड़ाई से पालन करना होगा. मास्क लगाना जरूरी होगा. वहीं एक बार में स्कूल में सिर्फ 20 बच्चों को ही बुलाया जाएगा. उससे ज्यादा बच्चों को एक बार में बुलाने की अनुमति नहीं है. टीचर और स्टाफ भी पहले के मुकाबले सिर्फ 50 प्रतिशत ही रहेंगे.

पटना कलेक्ट्रेट तोड़ने पर सुप्रीम कोर्ट ने लगाई रोक, हाईकोर्ट से मिली थी अनुमति

स्कूल परिसर में भी साफ सफाई का विशेष ध्यान रखना होगा. स्कूल में प्रवेश के समय बच्चों के हाथ और जूते मोजे को भी सेनेटाइज किया जाएगा. किसी भी तरह की कूड़े को उचित स्थान पर फेंकना होगा. इसके लिए खासकर डब्बा बंद डस्टबिन लगाना होगा. बच्चों के स्कूल के आने जाने के समय भी सोशल डिस्टेंसिंग का विशेष ध्यान रखा जाएगा. 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें