संपत्ति के लिए बेटे ने की मां-बाप की हत्या,पूछताछ में कोरोना को बताया मौत की वजह

Smart News Team, Last updated: Fri, 14th May 2021, 12:04 AM IST
  • पटना के रामकृष्णानगर थानाक्षेत्र में एक बेटे ने संपत्ति विवाद के कारण अपने मां-बाप की हत्या कर दी. जब पुलिस ने शवों के गले पर जख्म के निशान देखकर पूछताछ की, तो मृतक के बेटे ने कहा कि दोनों की मौत कोरोना से हुई. जिस पर पुलिस को उसपर शक हुआ और जांच टीम उसे थाने ले आई.
संपत्ति विवाद के चलते बेटे ने ली मां-बाप की जान

पटना. राजधानी पटना से रिश्तों को शर्मिंदा करने वाली एक घटना सामने आई है. जहां संपत्ति के लिए बेटे ने अपने ही मां-बाप की हत्या कर दी. गुरुवार को इस बारे में जानकारी पाकर मौके पर पहुंची पुलिस को मृतक के हाथ व गले में जख्म के निशान और कपड़े पर खून के धब्बे मिले. जिसे देखकर पुलिस ने गला दबाकर हत्या करने की आशंका जताई है. शवों के गले पर निशान देखकर पुलिस ने जब मृतक के बेटे से पूछताछ की, तो उसने मौत की वजह कोरोना बताई. एसपी सिटी पूर्वी जितेंद्र कुमार ने बताया कि पुलिस ने तफ्तीश के दौरान बेटे को हिरासत में ले लिया है.

यह घटना शिवाजी चौक के रामकृष्णानगर थाना क्षेत्र की है. पुलिस ने बताया कि मृतक 70 वर्षीय किशोर प्रसाद हाई स्कूल में फिजिकल इंस्ट्रक्टर थे. वे अपनी पत्नी 65 वर्षीय कमल लता देवी, बेटे रंजीत कुमार उर्फ निप्पू, बहू और पोते के साथ रहते थे. उनका बेटा प्राइवेट जॉब करता है. छानबीन में पता चला है कि रंजीत ने हाल में ही कुछ संपत्ति अपने नाम करके कुछ संपत्ति को बेटी की शादी के लिए बेच दिया था. जिसका पिता विरोध कर रहे थे और कुछ दिन पहले अपने बेटे के खिलाफ रामकृष्णानगर थाने में रिपोर्ट भी दर्ज कराई थी.

बिहार लॉकडाउन 10 दिन के लिए बढ़ा, जानें राज्य मे क्या खुला रहेगा और क्या बंद

जानकारी के अनुसार रंजीत अपने मां-बाप की मौत के बारे में बिना किसी को बताए उनके अंतिम संस्कार की तैयारी कर रहा था. लेकिन जब आस-पास के लोगों को इस बारे में पता चला तो उन्हें शक हुआ और पुलिस को इस बारे में सूचित किया. पुलिस के पहुंचने पर रंजीत ने कहा कि उसके माता-पिता को कोरोना हुआ था. लेकिन जब पुलिस ने जांच संबंधित कागजात मांगे तो वह घबरा गया और कागज नहीं दिखा सका. जिसपर पुलिस को उसपर शक हुआ और उसे जांच टीम थाने ले गई.

पटना HC ने नीतीश सरकार ये पूछा- कोरोना पर भदानी रिपोर्ट पर क्या कार्रवाई की?

वहीं किशोर प्रसाद के भतीजे सोनू ने भी पुलिस को बताया कि जब वह इस घटना के बारे में सूचना पाकर आया तो रंजीत हड़बड़ी में अंतिम संस्कार की तैयारी में लगा हुआ था. जब रंजीत से सख्ती से सोनू ने पूछा तो उसने बताया कि जब वह सुबह दोनों को जगाने आया तो उसने देखा कि उसके पिता कमरे में दूसरी जगह मृत पड़े है और मां दूसरी जगह. वहीं स्थानीय लोगों का कहना है कि उन्होंने किशोर प्रसाद को बुधवार को पूरी तरह से स्वस्थ देखा था.

बिहार में स्वास्थ्य संविदा कर्मचारियों की हड़ताल वापस, मरीजों की मुश्किल टली

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें