सुशांत सिंह राजपूत की पोस्टमार्टम रिपोर्ट पर वकील विकास सिंह ने उठाए गंभीर सवाल

Smart News Team, Last updated: 15/08/2020 08:31 PM IST
  • सुशांत सिंह राजपूत की आत्महत्या के बाद हुए पोस्टमार्टम की रिपोर्ट पर वकील विकास सिंह ने गंभीर सवाल उठाए हैं. उन्होंने कहा है कि ये कभी नहीं पता चलेगा की वो खुद लटके या उन्हें लटाकाया गया. सीबीआई के पास केस जाने पर इस केस में कई गंभीर खुलासे हुए हैं. फैंस लंबे समय से दावा कर रहे हैं कि ये हत्या है.
सुप्रीम कोर्ट में 5 अगस्त को रिया चक्रवर्ती की याचिका पर सुनवाई है जिन्होंने पटना में दर्ज सुशांत सिंह राजपूत के पिता की एफआईआर को मुंबई ट्रांसफर करने की अपील की है.

सुशांत सिंह राजपूत आत्महत्या केस की जांच सीबीआई को सौंपी जा चुकी है. इस मामले में कई बड़े खुलासे हुए हैं. आरोपी रिया चक्रवर्ती से ईडी भी मामले की पूछताछ कर रही है. वहीं सुशांत के पिता केके सिंह के वकील विकास सिंह ने शनिवार को सुशांत की पोस्टमार्टम रिपोर्ट पर सवाल उठाए हैं. उन्होंने खुलासा करते हुए बताया कि उस रिपोर्ट में सुशांत के मरने का समय नहीं लिखा है.

उन्होंने दावा किया है कि रिपोर्ट में अहम बात नहीं दर्ज की गई है. ये अहम जानकारी सुशांत के मरने का समय है. विकास सिंह ने कहा कि सुशांत सिंह राजपूत की जो पोस्टमार्टम रिपोर्ट मुझे देखने को मिली है उसमें टाइम ऑफ डेथ नहीं है. टाइम ऑफ डेथ बहुत महत्वपूर्ण है, इसी से स्पष्ट हो सकता है कि उन्हें मार के लटकाया गया या लटककर मरे. 

पटना: बिहार चुनाव पर चिराग पासवान की बैठक, बोले- लोजपा के लिए बिहारी फर्स्ट

इसी के साथ विकास सिंह ने ये भी कहा कि मुंबई पुलिस को और कूपर हॉस्पिटल को इन सवालों का जवाब देना होगा. जब तक सीबीआई इस मामले में नहीं जाएगी. मुझे नहीं लगता कि हम सच्चाई के आस-पास पहुंच पाएंगे. उनका कहना है कि सीबीआई पोस्टमार्टम करने वाले अस्पताल से इस बारे में पूछताछ करे. 

STF की छापेमारी में मिला पटना के बाप-बेटे गैंग का मोस्ट वांटेड माणिक, गिरफ्तार

बता दें कि इस मामले में केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले ने भी शनिवार को बयान दिया. उन्होंने कहा कि सुशांत सिंह राजपूत मामले की सीबीआई जांच होनी ही चाहिए. जब तक सीबीआई जांच नहीं होगी कुछ भी स्पष्ट नहीं होगा. मुंबई पुलिस ने इस मामले में इतने दिन लगाए हैं. इस केस में हमारा मुंबई पुलिस पर विश्वास नहीं है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें