पटना विश्वविद्यालय में स्नातक पाठ्यक्रम की सीटें खाली, कॉलेज खुद भरेंगे सीटें

Anurag Gupta1, Last updated: Fri, 10th Dec 2021, 11:32 AM IST
  • पटना विश्विद्यालय की स्नातक पाठ्यक्रम की सीटें खाली. दो मेधा सूची जारी होने के बाद सीटें बढ़ाई गई थी. जितनी सीटें बढ़ाई गई उसमें से ज्यादा खाली. अब सीटें भरने की जिम्मेदारी प्रिंसिपल पर.
पटना विश्वविद्यालय (फाइल फोटो)

पटना. पटना विश्वविद्यालय में स्नातक पाठ्यक्रम की खाली सीटों पर दाखिले के लिए एक और प्रयास किया जाएगा. इसके पहले पटना विश्वविद्यालयमें तीन सूची जारी कर नामांकन लिया और उसके बाद बची सीटों के लिए स्पॉट राउंड का आयोजन किया गया. कई राउंड की प्रक्रिया के बाद भी स्नातक स्तर के वोकेशनल और ट्रेडिशनल दोनों पाठ्यक्रमों को मिलाकर 700 से अधिक सीटें खाली रह गई.

अब पटना विश्वविद्यालय प्रशासन ने खाली सीटों को भरने के लिए एक और प्रयास करने का फैसला लिया है. जिसकी जिम्मेदारी कॉलेजों के प्रिंसिपल को ही सौंपी है. गुरुवार को पटना विवि के कुलपति प्रो. गिरीश कुमार चौधरी ने कॉलेजों के प्राचार्यों की बैठक बुलाई जिसमें निर्णय लिया गया कि कैजुअल वैकेंसी के तहत कॉलेज खुद अपनी सीटें भरें. जबकि इससे पहले तक की पूरी प्रक्रिया केंद्रीयकृत रही है लेकिन दो राउंड की प्रक्रिया होने के बावजूद जब सीट खाली है तब ऐसा फैसला लिया गया है.

पटना: शादी के लिए युवक ले जा रहा था साड़ियां, एक कॉल ने पहुंचा दिया सीधे जेल

पहले से आवेदन किए छात्रों का होगा नामांकन:

पटना विवि के छात्र कल्याण संकायाध्यक्ष प्रो. अनिल कुमार ने कैजुअल वैकेंसी के तहत नामांकन की प्रक्रिया के बारे में बताया कि सभी कॉलेजों को विषयवार खाली सीटों का आंकड़ा उपलब्ध करा दिया गया है. इन खाली सीटों पर नामांकन का पूरा फैसला प्रिंसिपल लेंगे. इसके लिए नोटिस देकर आवेदन मंगाने हैं और पहले से आवेदन किए छात्रों में से ही नामांकन होना है. नामांकन की तिथि व अन्य चीजों से जुड़ी जानकारी का फैसला प्रिंसिपल करेंगे. फिलहाल कैजुअल वैकेंसी के साथ स्पोर्ट्स और फाइन आर्ट्स कोटा की सीटों पर भी नामांकन होना हैं. 

सीटें बढ़ाने का नहीं मिला लाभ:

बिहार शिक्षा विभाग ने पटना विवि में स्नातक स्तर पर 515 सीटों को बढ़ाने का फैलला लिया था. ये निर्णय उस समय लिया था जब दो सूचियों के आधार पर नामांकन पूरा हो चुका था. जिन कॉलेजों में सीटें बढ़ी वहां पर ज्यादा खाली है. पटना कॉलेज में ट्रेडिशनल कोर्सेज की 600 सीटों को बढ़ाकर 780 कर दिया गया लेकिन यहां लगभग 300 सीटें खाली रह गई. पटना साइंस कॉलेज की 600 सीटों को 660 कर दिया गया. जबकि चार वोकेशनल कोर्सेज में 90 सीटें हैं. लेकिन कुल 750 सीटों में से लगभग 100 सीटें खाली रह गई हैं. स्नातक के सभी पाठ्यक्रमों की नामांकन प्रक्रिया दिसंबर महीने में खत्म कर देनी है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें