दोस्तों के संग गंगा में नहाने गया लड़का डूबा, घाट से घबरा कर भागे दोस्त

Sumit Rajak, Last updated: Mon, 1st Nov 2021, 2:00 PM IST
  • राजधानी पटना के गंगा घाट पर दोस्तों संग नहाने गया एक युवक डूब गया. पटना पुलिस ने घटना की सूचना मिलने के बाद एसडीआरएफ की टीम को बुलाकर युवक की तलाश कराई. हांलाकि एसडीआरएफ की टीम उसका शव को बरामद नहीं कर पाया.गंगा में ट्रेंनिग देने वाले ट्रेनर मनीष कुमार ने डूबे हुए युवक की शव को निकाला.
गंगा नदी में डूबा युवक

पटना: राजधानी पटना के गंगा घाट पर दोस्तों संग नहाने गया एक युवक डूब गया. वहीं पटना पुलिस ने घटना की सूचना मिलने के बाद एसडीआरएफ की टीम को बुलाकर युवक की तलाश कराई. हांलाकि एसडीआरएफ की टीम उसका शव को बरामद नहीं कर पाया जाएगी.गंगा में ट्रेंनिग देने वाले ट्रेनर मनीष कुमार ने डूबे हुए युवक की शव को निकाला. ट्रेनर मनीष  राजेन्द्र नगर का रहने वाला है और वह नेशनल तैराकी की तैयारी करता है.

सोमवार को थाना क्षेत्र के पटना कॉलेज गंगा घाट पर स्नान के दौरान एक युवक डूब गया है. बताया जा रहा है कि कंकड़बाग के अशोक नगर के रोड नंबर वन बी चित्रगुप्त मन्दिर के पास का निवासी मुकेश प्रसाद का पुत्र मुकुल (18) अपने साथियों के साथ गंगा घाट स्नान करने गया था. स्नान के दौरान चार युवक गहरे पानी में चले गए. जिसमें से मुकुल डूब गया. वहां से युवक तीन किसी तरह से निकलकर भागे.  तीनों युवक का नाम हर्ष कुमार , ऋषभ कुमार पांडेय और दिव्यांग कुमार नाम है. सभी साथ में कोचिंग करते है और  लॉज में साथ रहते है. मुकुल की खोज में स्थानीय नाविक और एसडीआरएफ जुटे गये है. काफी देर होने के बाद गंगा में ट्रेंनिग देने वाले ट्रेनर मनीष कुमार ने डूबे हुए युवक की शव को निकाला.

मिड-डे मिल के नमक-तेल से लेकर सब्जी तक की खरीद कैशलेस, नीतीश सरकार ने की ये तैयारी

मृतक मुकुल का स्थायी पता नालंदा के दामोदरपुर थाना नगरनौसा है. उनके पिता मुकेश प्रसाद खेती करते हैं. मृतक अपने दो भाई बहनों में बड़ा था. घटना की जानकारी होने बाद उनके चाचा राजनीति कुमार पहुच गए. गहरे पानी मे चले जाने से वह डूबने लगा. उसे डूबता देखकर साथी चीखने - चिल्लाने लगे. पल भर में घाट पर भारी भीड़ जमा हो गई. पुलिस ने  एसडीआरएफ की टीम को बुलाया. गंगा में ट्रेंनिग देने वाले ट्रेनर काफी मशक्कत के बाद शव को घाट के समीप ही गहरे पानी से निकाला. मृतक युवक को देखने के लिए आसपास के गांवों के लोगों का तांता लगा रहा.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें