मेरे बेटे को डायरिया है, कोई तो दवा दे दो

Newswrap, Last updated: 06/10/2019 01:13 PM IST
पटना में आज भी लाखों लोग पानी के बीच में फंसे हुए हैं। अब यहां बीमारियां फैलनी शुरू हो चुकी हैं। डायरिया, पेट दर्द, बुखार, खुजली और सांस के मरीज बढ़ते ही जा रहे हैं। गुरुवार को रिपोर्टर नाव से...
पटना सिटी में जलजमाव में फंसे लोगों को निकाल कर ले जाती एसडीआरएफ की टीम।

पटना में आज भी लाखों लोग पानी के बीच में फंसे हुए हैं। अब यहां बीमारियां फैलनी शुरू हो चुकी हैं। डायरिया, पेट दर्द, बुखार, खुजली और सांस के मरीज बढ़ते ही जा रहे हैं। गुरुवार को रिपोर्टर नाव से राजेंद्रनगर इलाके में फंसे हुए लोगों की पड़ताल करने पहुंची। हर दूसरे घर से दवा की गुहार लगाई जा रही है। किसी का बेटा बीमार है तो किसी की मां। हर कोई दर्द से कराह रहा है, लेकिन उसे दवा देना तो दूर कोई हाल पूछने वाला तक नहीं है। गलियों में पानी इतना है कि डूबने का खतरा है।

पानी में परेशान एक पिता

प्रेमचंद मार्ग स्थित एक मकान में प्रशांत किराएदार हैं। भूतल में पानी भर जाने के कारण वे तीसरे तल्ले पर जाकर रह रहे हैं। 5 साल के बेटेसूरज को डायरिया हो गया है। लगातार दस्त से उसका शरीर कमजोर होता जा रहा है। घर में दवा भी नहीं है। प्रशांत और पत्नी छाती पीट-पीटकर मदद की गुहार लगा रहे हंै, लेकिन कोई नहीं आ रहा।

कब जागेगा प्रशासन

- गंदगी से मच्छर बढ़ रहे हैं और प्रशासन खानापूर्ति की फागिंग व ब्लीचिंग पाउडर का छिड़काव कर रहा है

- राजेंद्रनगर की सैकड़ों गलियों में फंसे हैं लाखों लोग, यहां तक नहीं पहुंच रही राहत सामग्री और नाव

- प्रशासन राहत सामग्री में पानी और आलू दे रहा है, दवाइयां अभी तक नहीं बांटी गई

- गुरुवार को भी बंद रहे राजेंद्रनगर के संपों के मोटर, कब निकलेगा पानी, जवाब किसी के पास नहीं

महामारी के ढेर पर पटना

सड़ रहे पानी से सबसे अधिक चर्म रोग फैल रहा है। यह दावा है मुंबई की संस्था डॉक्टर फॉर यू का। संस्था शिविर में लोगों का नि:शुल्क इलाज कर रही है। डॉ. रविकांत का कहना है कि वैशाली गोलंबर कैंप में 24 घंटे के अंदर 800 मरीजों का इलाज किया गया, इनमें 500 चर्मरोग के मरीज मिले। बारिश के पानी में नाले की गंदगी मिल जाने से पानी संक्रमित हो चुका है। जैसे-जैसे पानी सूखेगा, बीमारियां बढ़ेंगी।

फागिंग करवाई जा रही है। प्रभावित इलाकों में ब्लीचिंग पाउडर भी डाला जा रहा है। प्रशासन सक्रिय है।

-कुमार रवि, डीएम, पटना

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें