PM नरेंद्र मोदी ने बिहार में किया 294 करोड़ रुपये की योजनाओं का उद्घाटन

Smart News Team, Last updated: 10/09/2020 01:58 PM IST
  • बिहार विधानसभा चुनाव से पहले पीएम नरेंद्र मोदी ने कई योजनाओं का उद्धटन किया. उन्होंने बिहार को 294 करोड़ रुपये की योजनाओं का तोहफा दिया. 
PM नरेंद्र मोदी ने बिहार में किया 294 करोड़ रुपये की योजनाओं का उद्घाटन

पटना. बिहार में इस साल विधानसभा चुनाव होने वाले हैं. इ से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को बिहार को 294.53 करोड़ रुपये की योजनाओं का तोहफा दिया है. आज पीएम मोदी ने प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना, पीएमएमएसवाई की शुरुआत की. उन्होंने किसानों के प्रत्यक्ष उपयोग के लिए एक समग्र नस्ल सुधार, बाजार और सूचना संबंधी ई-गोपाला एप का भी उद्धाटन किया. 

पीएम मोदी ने कार्यक्रम में मौजूद राज्य के लोगों और योजना के लाभार्थियों के साथ बात की. लोगों ने अपनी बात पीएम के सामने रखी और पीएम मोदी ने अपनी और से उन्हें योजनाओं के फायदे और अन्य सुझाव दिए. पीएम ने लोगों से बात करते हुए अपनी सरकार के अन्य उपलब्धियों के बारे में भई बताया. उन्होंने बताया कि उनकी सरकार महिलाओं और किसानों को आत्मनिर्भर बनाने के लिए काम कर रही है.

बिहार: ई-वेस्ट पर इलेक्ट्रॉनिक कंपनी का फर्जीवाड़ा, BPCB ने जारी किया नोटिस

पीएम मोदी ने मत्स्य संप्रदा योजना का उद्घाटन किया जिससे मछली किसानों और लोगों की सुरक्षा पर भी ध्यान दिया जा रहा है और इसके लिए बीमा योजना दी गई है. इस नई तकनीक से मछुआरों के जान माल की रक्षा के उपाय किए गए हैं और इससे उत्पादन बढे़गा. उन्होंने ई गोपाला एप को लोगों के लिए जारी किया. पीएम ने राष्ट्रीय गोकुल मिशन के तहत 84.27 करोड़ की लागत से पूर्णिया सीमेन स्टेशन, 8.06 करोड़ की लागत से बिहार पशु विज्ञान विश्वविद्यालय, पटना में इम्ब्रयो ट्रांसफर टेक्नोलॉजी (ईटीटी) एवं आईवीएफ लैब का उद्घाटन किया.

पटना AIIMS में सफल रहा कोरोना वैक्सीन ट्रायल का पहला चरण, दूसरे चरण की शुरुआत

इसके अलावा 2.13 करोड़ की लागत से बेगूसराय, खगड़िया, समस्तीपुर, नालन्दा और गया में तैयार सेक्स सॉर्टेड सीमेन परियोजना का भी शुभारंभ किया. योजनाओं के उद्धाटन का कार्यक्रम वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए हुआ. इस दौरान राज्य के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी, केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह समेत कई नेता कॉन्फ्रेंस पर मौजूद रहे.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें