PM मोदी को पसंद आया बिहार होम आइसोलेशन ट्रैकिंग ऐप्स, राष्ट्रीय स्तर पर हो सकता है लागू

Smart News Team, Last updated: Wed, 19th May 2021, 1:58 PM IST
बीते दिनों प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 9 राज्यों के 46 जिलाधिकारियों से कोरोना को लेकर वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए संवाद किया है. पीएम मोदी को बिहार के होम आइसोलेशन ऐप्स के कार्य करने का तरीका पंसद आया है. पीएम ने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय को निर्देश देते हुए बिहार के होम आइसोलेशन ऐप को राष्ट्रीय स्तर पर लागू करने की बात कही है.
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बिहार होम आइसोलेशन ट्रैकिंग ऐप्स की तारीफ की.

पटना: बिहार में कोरोना संक्रमण बढ़ने के बाद केविड पॉजिटिव मरीज की जानकारी रखने में होम आइसोलेशन ऐप महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही है. इस ऐप की मदद से संक्रमित मरीजों की होम आइसोलेशन स्थिति और स्वास्थ्य पर भरी नजर रखी जा रही है. बीते दिनों प्रधानमंत्री नरेंद मोदी( PM Narendra Modi ) ने 9 राज्यों के 46 जिलाधिकारियों ( DM ) से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए संवाद किया था जिसमें पीएम मोदी को बिहार के आइसोलेशन ट्रैकिंग ऐप कार्य करने के पसंद आये.

वर्चुअल संवाद में पटना के डीएम चंद्रशेखर सिंह ने बताया कि यह ऐप रियल टाइम में कोरोना पॉजिटिव जोन के बाद होम आइसोलेशन में रहने वाले मरीजों की सारी जानकारी एक क्लिक में मिल रही है. जिससे मरीज की स्थिति बिगड़ने पर उससे कम समय में आवश्यक स्वास्थ्य सुविधाएं मुहैया करा दी जाती हैं. संवाद में पीएम ने कहा कि यह ऐप लोगों के लिए मददगार साबित हो सकता है. पीएम ने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय को निर्देश देते हुए होम आइसोलेशन ऐप को राष्ट्रीय स्तर पर लागू करने की बात भी कही है.

पटना AIIMS-IGIMS बनेंगे स्पेशल सेंटर, ब्लैक फंगस के मरीजों का होगा इलाज

मददगार साबित होगा ऐप

डीएम से हुई वर्चुअल संवाद में पीएम मोदी ने कहा कि इस ऐप का इस्तेमाल पूरे देश के लिए उपयोगी साबित हो सकता है. स्वास्थ्य विभाग ऐप का उपयोग आशा कार्यकर्ता फैसिलिटेटर के माध्यम से कर सकता है. आइसोलेशन ट्रैकिंग कोविड ऐप से स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं के द्वारा मरीजों के घर पर जाकर प्रतिदिन उनके शरीर का तापमान और ऑक्सीजन स्तर जांच की जाएगी, जिसके आधार पर उनका उचित इलाज समय पर हो सकेगा.

पटना AIIMS-IGIMS बनेंगे स्पेशल सेंटर, ब्लैक फंगस के मरीजों का होगा इलाज

Video: पटना में लॉकडाउन का नियम तोड़ने पर बिहार के पूर्व मंत्री की गाड़ी का चालान

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें