पटना की पूर्व डिप्टी रजिस्ट्रार की करोड़ों की संपत्ति बेनामी घोषित, आयकर विभाग ने की जब्त

Swati Gautam, Last updated: Wed, 10th Nov 2021, 9:12 AM IST
  • आयकर विभाग की बेनामी संपत्ति यूनिट में पटना की पूर्व डिप्टी रजिस्ट्रार प्रीति सुमन की दो करोड़ से ज्यादा की बेनामी संपत्ति जब्त कर ली गई है. यह संपत्ति उन्होंने कैश देकर खरीदी है लेकिन इसे कहीं भी अपनी घोषित आय में नहीं दिखाया है. इन्हीं तथ्यों के आधार प्रीति सुमन की संपत्ति जब्त की गई.
पटना की पूर्व डिप्टी रजिस्ट्रार की करोड़ों की संपत्ति बेनामी घोषित, आयकर विभाग ने की जब्त. फाइल फोटो

पटना. आयकर विभाग की बेनामी संपत्ति यूनिट में पटना की पूर्व डिप्टी रजिस्ट्रार प्रीति सुमन की दो करोड़ से ज्यादा की बेनामी संपत्ति जब्त कर ली गई है. यह संपत्ति उन्होंने कैश देकर खरीदी है और इसे कहीं भी अपनी घोषित आय में नहीं दिखाया है. इन्हीं तथ्यों के आधार पर इनकी यह सभी संपत्ति बेनामी मानते हुए जब्त की गई है. बताया जा रहा है कि इस संपत्ति का बाजार मूल्य दो करोड़ से भी कई ज्यादा है. पूर्व डिप्टी रजिस्ट्रार प्रीति सुमन की बेनामी संपत्ति को जब्त करने के बाद यह मामला नई दिल्ली स्थित आयकर विभाग तक पहुंच गया है.

बता दें कि ऐसे मामलों में पारित आदेश की सत्यता जांचने के लिए गठित एक मामला विशेष न्यायालय में चला गया है. यहां से आदेश पारित होने के बाद सभी बेनामी संपत्ति को अंतिम रूप से जब्त कर लिया जाएगा. जांच में यह पता चला कि प्रीति सुमन ने अपनी मां बहन भाई समेत कुछ अन्य परिजनों के नाम पर संपत्ति रजिस्ट्री करवाई है हैरानी की बात यह है कि यह सभी परिजन किसी तरह का कोई काम नहीं करते हैं. इतना ही नहीं जांच में पता चला है कि पटना सिटी स्थित निबंधन कार्यालय में प्रीति सुमन ने अपनी पदस्थापना के दौरान 2012-13, 2013-14, 2014-15 और 2015-16 में इसी इलाके में कई संपत्ति खरीदी है.

पटना: गैस वेंडर को सड़क पर दौड़ाकर मारी गोली, आरोपी से गैस बांटने को लेकर था विवाद

जैसे जैसे जांच आगे बढ़ती जा रही है वैसे वैसे यह मामला गंभीर होता जा रहा है. बिहार में इस तरह के करीब 55 मामले ऐसे हैं, जिनकी जांच आयकर विभाग बेनामी संपत्ति के तहत कर रहा है और अब इनमें पूर्व डिप्टी रजिस्ट्रार का नाम भी जुड़ गया है. आने वाले दिनों में इनमें कई लोग पर कार्रवाई हो सकती हैं. वहीं प्रीति सुमन की जांच के दौरान मालूम हुआ कि यह सभी संपत्ति उन्होंने कैश देकर खरीदी है और इसे कहीं भी अपनी घोषित आय में नहीं दिखाया है. इन्हीं तथ्यों के आधार पर इनकी यह सभी संपत्ति बेनामी मानते हुए जब्त की गई है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें