बहू के स्वागत के लिए पटना पहुंची राबड़ी देवी, सोमवार को पत्नी संग पहुचेंगे तेजस्वी

Anurag Gupta1, Last updated: Sun, 12th Dec 2021, 9:21 AM IST
  • राबड़ी देवी अपनी छोटी बहू के स्वागत के लिए पटना पहुंच गई. रविवार को तेजस्वी यादव को भी पटना आना था लेकिन राबड़ी देवी के मना करने पर अब सोमवार को आएंगे. 14 दिसंबर से खरमास लग जायेगा इसलिए सोमवार को ही अपनी पत्नी संग पटना आएंगे तेजस्वी.
सोमवार को तेजस्वी यादव पत्नी संग पहुंचेंगे पटना (फाइल फोटो)

पटना. पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव के छोटे बेटे तेजस्वी यादव की शादी दिल्ली में गुरूवार को संपन्न हो गई है. अब छोटी बहू के स्वागत के लिए तेजस्वी यादव की माता व पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी पटना पहुंच चुकी हैं. लेकिन तेजस्वी यादव की पटना आने की संभावना अभी कम है. राबड़ी देवी ने तेजस्वी को सलाह दी है कि बहू का स्वागत व विदाई रविवार को नहीं होती है.

फिलहाल परिवार अभी इस मुद्दे पर सलाह मसौरहा कर रहा है लेकिन सोमवार को ही आने की उम्मीद है. 14 दिसंबर से खरमास लग रहा है खरमास के पहले दस सर्कुलर रोड में नई बहू का प्रवेश हो जाएगा. दिल्ली में शादी का कार्यक्रम खत्म होने के साथ ही तेजस्वी यादव और उनकी पत्नी के पटना आने पर परिवार में मंथन शुरू हो गया है. 14 से खरमास आरंभ हो जाएगा ऐसे यदि रविवार को नहीं आते है तो सोमवार आना तय है वरना खरमास तक आना मुश्किल होगा.

मामा साधु यादव पर भड़के तेज प्रताप, कहा- मार के गरदा उड़ा देब, रुक आवतानी बिहार

बहूभोज 2022 में होगा:

कोरोना की स्थिति को देखते हुए बहूभोज का कार्यक्रम होगा. फिलहाल बता दें पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी अपने छोटे बेटे और बहू के स्वागत की तैयारी के लिए शनिवार को ही पटना पहुंच गई है. पार्टी सूत्रों के अनुसार शादी को भोज पटना में होगा. इसकी तारीख जल्द ही तय हो जाती लेकिन कोरोना की बढ़ती संख्या को देखते हुए फिलहाल इस पर विराम लगाया गया है. अब खरमास तक की कोई कार्यक्रम नहीं होगा.

कौन है तेजस्वी की जीवन साथी:

गुरूवार को तेजस्वी यादव परिणय सूत्र में बंध गए. दिल्ली के साकेत स्थित सैनिक फार्म में उनकी शादी हरियाणा की रहने वाली पुरानी दोस्त से हुई. दोनों दिल्ली के आरके पुरम स्थित दिल्ली पब्लिक स्कूल में एक साथ पढ़ते थे उसी दौरान दोनों की दोस्ती हुई जो अब पवित्र बंधन में बदल गई. शादी के कार्यक्रम में कुछ लोग ही बाहर के थे वरना बाकी सब घर के लोग ही शामिल हुए थे.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें