Ramayana Circuit: 22 फरवरी को दिल्ली से रामायण सर्किट स्पेशल ट्रेन, श्रद्धालु कर सकेंगे इन तीर्थ स्थानों के दर्शन

Haimendra Singh, Last updated: Fri, 18th Feb 2022, 11:21 AM IST
  • आईआरसीटीसी(IRCTC) 22 फरवरी को रामायण सर्किट स्पेशल ट्रेन की शुरूआत करने जा रही है. यह ट्रेन श्रद्धालुओं को अयोध्या और सीतामड़ी होते हुए भारत के तीर्थ के दर्शन कराएंगी. यह ट्रेन 20 दिनों में करीब 7500 किमी की यात्रा तय करेगी.
रामायण सर्किट स्पेशल ट्रेन.( फाइल फोटो )

पटना. भारतीय रेलवे खानपान एंव पर्यटन निगम(IRCTC) ने रामायण सर्किट विशेष ट्रेन चलाने की सभी तैयारियां पूरी कर ली है. आईआरसीटीसी 22 फरवरी को दिल्ली के सफदरगंज रेलवे स्टेशन से इसकी शुरूआत करने जा रही है. आईआरसीटीसी के वरिष्ठ अधिकारियों ने बताया है कि यात्रा से जुड़े सभी इंतजाम को पूरा कर लिया गया है. रामायण सर्किट स्पेशल ट्रेन 20 दिनों में करीब 7,500 किमी की यात्रा करेगी. जिसमें रामजन्मभूमि, प्रयागराज, श्रृंगवेरपुर, चित्रकूट जैसे स्थान मुख्य होंगे. 20 दिनों की यात्रा के यह रेलगाड़ी श्रद्धालुओं को लेकर वापस दिल्ली लौट आएगी.

रामायण सर्किट स्पेशल ट्रेन का रुट

आईआरसीटीसी के द्वारा 22 फरवरी को रामायण सर्किट स्पेशल ट्रेन की शुरूआत के बाद रेलगाड़ी श्रीराम जन्मभूमि अयोध्या पहुंचेगी. इसके बाद रेलगाड़ी का अगला पड़ाव बिहार का सीतामड़ी होगा, जहां श्रद्धालुओं के माता सीता की जन्मभूमि के दर्शन कराए जाएंगे. इसके बाद ट्रेन वाराणसी, प्रयागराज और श्रृंगवेरपुर की यात्रा के लिए रवाना होगी. इन स्थानों पर दर्शनों के बाद ट्रेन चित्रकूट, नासिक और हम्पी की यात्रा पर निकल जाएगी. यात्रा के दौरान श्रद्धालुओं का ख्याल रखने के लिए आईआरसीटीसी ने सारी तैयारियां पूरी कर ली है. अंत में ट्रेन यात्रियों को तेलगाना तक ले जाएगी.

गोवा नहीं बिहार भा रहा है विदेशियों को, बोधगया, राजगीर व वैशाली जगह आते हैं घूमने

यात्रा का दूरी, समय और पैकेज की जानकारी

रामायण सर्किट स्पेशल ट्रेन करीब 7500 कि मी की यात्रा करेगी, जिसमें करीब 20 दिनों का समय लगेगा. आईआरसीटीसी अधिकारियों के कुछ नंबर जारी किए है जिनपर संपर्क करके श्रद्धालु यात्रा के पैकेज और खर्चे की जानकारी प्राप्त कर सकते है. यह नंबर 8287930202, 8287930299 और 8287930157 है. आधिकारियों ने बताया है कि पूरे पैकेज की ट्रेन का किराया, होटलों में रहने की खर्च, खानपान, एसी वाहनों से तीर्थ-स्थलों के दर्शन और यात्रा के बीमा भी शामिल किया गया हैं.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें