गांधी मैदान में नहीं कालिदास रंगालय में होगा रामलीला का आयोजन, घर बैठे देख सकेंगे कार्यक्रम

Ankul Kaushik, Last updated: Fri, 10th Sep 2021, 9:55 AM IST
  • कोरोना संक्रमण के चलते इस बार पटना के गांधी मैदान में रामलीला और रावणवध का आयोजन नहीं होगा. हालंकि गांधी मैदान के पास स्थित कालिदास रंगालय में तीन दिन तक रामलीला का वर्चुअल आयोजन होगा होगा जिसे लोग घर पर बैठ कर देख सकते हैं.
कोरोना के चलते कालिदास रंगालय में होगी रामलीला, (फाइल फोटो)

पटना. कोरोना के खतरे के चलते इस बार भी पटना के गांधी मैदान में रामलीला और रावणवध का आयोजन नहीं होगा. हलांकि सर्वसम्मति से निर्णय लिया गया कि कि गांधी मैदान के पास स्थित कालिदास रंगालय में रामलीला कार्यक्रम होगा जो तीन दिवसीय होगा. इसमें 14 अक्तूबर को रामलीला ,15 अक्टूबर को रावण वध,16 अक्तूबर को भरत मिलाप का कार्यक्रम आयोजित किया जाएगा. इस कार्यक्रम के आयोजन में सीमित संख्या में ही लोग शामिल होंगे जिसमें रावण वध सांकेतिक रूप से किया जाएगा. कालिदास रंगालय में आयोजित होने वाले तीन दिवसीय कार्यक्रम का वर्चुअल प्रसारण होगा, जिसे फेसबुक, यूट्यूब, ट्विटर आदि सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर देखा जा सकता है. अब रामलीला को देखने के लिए लोग कालिदास रंगालय न जाकर उसे घर बैठे देख सकते हैं.

दशहरा से जुड़े आयोजनों को लेकर कोविड के खतरे को देखते हुए पटना डीएम डॉ चंद्रशेखर सिंह की मौजूदगी में यह निर्णय लिए गए हैं. इस अहम बैठक का आयोजन समाहरणालय में गुरुवार को हुआ जिसमें पटना डीएम डॉ चंद्रशेखर सिंह के साथ एसएसपी उपेंद्र कुमार शर्मा ने श्री दशहरा कमेटी ट्रस्ट पटना के अध्यक्ष कमल नोपानी और सचिव अरुण कुमार मौजूद रहे. इस बैठक में यह भी कहा गया कि अगर इस आयोजन से कोविड के केस बढ़ते हैं तो आयोजन की अनुमति रद्द कर दी जाएगी.

अयोध्या रामलीला की तैयारी शुरू, भाग्यश्री माता सीता, शक्ति कपूर बनेंगे अहिरावण

वहीं इस कार्यक्रम को लेकर अनुमंडल पदाधिकारी एवं अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी को स्थानीय परिस्थितियों का आकलन कर उचित निर्णय लेने तथा आवश्यक अनुमति देने का निर्देश दिया गया है. वहीं अगर कोई भी कोविड प्रोटोकाल का उल्लंघन करता हुआ मिला तो उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी. वहीं रामलीला के आयोजन में पंचायत चुनाव 2021 में लागू आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन ना हो इसका भी खास ध्यान रखा जाएगा.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें