पटना में फ्लैट देने के नाम पर बिल्डर ने 2 जज समेत कई लोगों से लाखों ठगे, अरेस्ट

Smart News Team, Last updated: Sun, 13th Jun 2021, 11:45 PM IST
  • पटना में फ्लैट दिलाने के नाम पर दो जजों समेत कई अधिकारियों से रांची के बिल्डर ने लाखों रुपए ठगे. पुलिस ने आरोपी बिल्डर को अरेस्ट कर लिया है और उससे पूछताछ की जा रही है. इस मामले में बिल्डर की पत्नी भी आरोपी है.
पटना में फ्लैट दिलवाने के नाम पर रांची के बिल्डिर ने लाखों रुपए ठगे. प्रतीकात्मक तस्वीर

पटना. बिहार की राजधानी पटना में फ्लैट दिलवाने के नाम पर रांची के बिल्डर ने दो जज समेत कई अधिकारियों से लाखों रुपए ठगे. अधिकारियों को जब न फ्लैट और न ही पैसे तो उन्होंने पुलिस में रिपोर्ट दर्ज कराई. जिसके बाद पुलिस ने रांची के बिल्डर को अरेस्ट कर लिया. पुलिस ने आरोपी बिल्डर के दो फ्लैट भी सील कर दिए हैं. इस मामले में बिल्डर की पत्नी भी आरोपी है.

आरोपी बिल्डर अरविंद कुमार ठगी के एक मामले में पहले भी जेल जा चुका है. इस बारे में शास्त्रीनगर थाना प्रभारी रमाशंकर सिंह ने कहा कि पकड़े गए आरोपी बिल्डर से पूछताछ की जा रही है. पुलिस ने बताया कि गिरफ्तार हुआ बिल्डर अर्जुना होम्स प्राइवेट लिमिटेड का डायरेक्टर है और पत्नी शशिकला कंपनी की दूसरी डायरेक्टर है.

दो बच्चों का बाप जा रहा था दूसरी शादी करने, पत्नी ने मंडप के जगह थाने पहुंचाया

ठगी के शिकार बने अधिकारियों में एक जज की पोस्टिंग 2014 में रोहतास में थी. बिल्डर अरविंद ने जज को अपनी कंपनी के बारे में बताया. उसने बताया कि पटना के शास्त्रीनगर में एक बड़ा अपार्टमेंट बनवा रहा है जो सितंबर 2014 में बन जाएगा. इसके बनते ही फ्लैट की रजिस्ट्री कर दी जाएगी. अरविंद ने जज से पैसे मांगे. उसकी बातों में आकर जज ने एसबीआई से पर्सनल लोन ले लिया. इसके बाद फ्लैट सेल परचेस एग्रीमेंट की रजिस्ट्री ऑफिस में रजिस्टर हुई. 

इसके बाद होम लोन पास करवाकर जज के नाम से एलआईसीएचएफएल में लोन अकाउंट खोला गया और 40 लाख रुपए मंजूर हो गए. पैसे लेने के बावजूद अब तक फ्लैट नहीं बना. पैसे वापस मांगने पर आरोपी बिल्डर दूसरी जगह पर रहने लगा और फोन बंद कर दिया. जिसके बाद जज ने थाने में केस दर्ज कराया. जिसके बाद बिल्डर को गिरफ्तार करके पूछताछ की जा रही है.

IGIMS के डॉक्टरों ने दिमाग से निकाला टेनिस बॉल जितना बड़ा फंगस, बचाई मरीज की जान

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें