तेजस्वी की ताजपोशी अभी नहीं, लालू यादव के उत्तराधिकारी पर सस्पेंस

Haimendra Singh, Last updated: Sat, 5th Feb 2022, 1:19 PM IST
  • तेजस्वी यादव को आरजेडी का अध्यक्ष बनाए जाने की बातों का लालू प्रसाद यादव ने खंडन कर दिया है. उन्होंने कहा है कि वह राजद के अध्यक्ष पद पर बने रहेंगे और जो लोग ऐसी चर्चाएं कर रहे है वो मुर्ख हैं.
राजद प्रमुख लालू प्रसाद और उनके छोटे बेटे तेजस्वी यादव.( फाइल फोटो )

पटना. बिहार की राजनीति में पिछले कुछ दिनों से चर्चाएं चल रही थी कि राष्ट्रीय जनता दल(RLD) के संस्थापक लालू प्रसाद यादव अध्यक्ष पद छोड़ सकते हैं. लेकिन अब लालू प्रसाद यादव ने इन चर्चाओं को खारिज कर दिया है. उन्होंने कहा है कि वह राजद के अध्यक्ष पद पर बने रहेंगे. तेजस्‍वी यादव को राजद का नया अध्‍यक्ष बनाए जाने की चर्चाओं पर उन्‍होंने कहा कि ऐसी बात करने वाले मूर्ख हैं. तेजस्वी को अभी इसके लिए इंतजार करना होगा. बता दें कि लालू के बड़े बेटे तेज प्रताप यादव ने भी तेजस्वी को अध्यक्ष बनाए जाने के बयानों को खारिज किया था.

लालू प्रसाद यादव के बयान के बाद आरजेडी के अध्यक्ष पद को लेकर हो रही चर्चाओं पर विराम लग गया है. बिहार जाने की बातों का जवाब देते हुए लालू यादव ने कहा कि पटना जाने है या नहीं, इसका फैसला डॉक्टर लेंगे. इससे पहले लालू यादव की पत्नी और बिहार की पूर्व मुख्यमंत्री रावड़ी देवी ने भी कहा था कि राजद की अध्यक्ष पदों को लेकर झूठी खबरें चलाई जा रही हैं. भारतीय जनता पार्टी( भाजपा ) प्रदेश उपाध्यक्ष राजीव रंजन ने कहा कि राजद का मुखिया कौन रहे, यह भले ही उनका अंदरुनी मामला है, लेकिन पार्टी में चलने वाली राजशाही को लोकतांत्रिक लबादा ओढ़ाने की उनकी कारगुजारियां बेहद हास्यास्पद हैं. सब जानते है कि राजद लालू परिवार की पाकेट पार्टी है, जिसपर लालू परिवार के अलावा कोई और राज नहीं कर सकता है.

RJD अध्यक्ष पद से रिटायर होंगे लालू यादव? राबड़ी देवी ने दिया करारा जवाब

बता दें कि अगले सप्ताह होने वाली पार्टी कार्यसमिति की बैठक होनी है, जिसको लेकर चर्चाएं चल रही थी कि लालू प्रसाद यादव अध्यक्ष का पद छोड़ देंगे और तेजस्वी यादव की ताजपोशी होगी. बता दें कि चारा घोटाले के सबसे बड़े मामले डोरंडा कोषागार केस का फैसला इसी महीने आने वाला है. इस केस में लालू यादव प्रमुख अभियुक्‍त हैं. अगर इस मामले में लालू यादव को सात साल से ज्यादा की सजा सुनाई जाती है तो आने वाले समय में उनकी मुश्किलें बढ़ सकती हैं.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें