तेज प्रताप अचानक पहुंचे जेपी निवास, छात्र संगठन को मजबूत बनाने का लिया संकल्प

Ankul Kaushik, Last updated: Thu, 9th Sep 2021, 9:32 AM IST
  • राजद सुप्रीमो लालू यादव के बड़े बेटे तेज प्रताप यादव बुधवार 8 सितंबर को अचानक पटना में लोकनायक जयप्रकाश नारायण के निवास पहुंचे. जेपी निवास चरखा समिति पहुंच तेज प्रताप को अपने पिता लालू की याद आई और उन्होंने जेपी के चित्र को प्रणाम कर आशीर्वाद लिया.
राजद नेता तेज प्रताप यादव जेपी निवास चरखा समिति पहुंचे, (फाइल फोटो)

पटना. राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) के सुप्रीमो लालू यादव के बड़े बटे और बिहार के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री तेज प्रताप यादव बुधवार 5 सितंबर को जेपी निवास चरखा समिति पहुंचे. तेज प्रताप यादव ने जेपी निवास में लोकनायक जयप्रकाश नारायण से जुड़ी चीजों को देखा और इन सभी को देखते हुए वह भावुक हो गए. भावुक होते हुए तेजप्रताप यादव को अपने पिता लालू यादव की याद आई और उन्होंने कहा कि पिताजी ने छात्रों के हित के लिए पिताजी ने भी लोकनायक के साथ मिलकर काम किया था. इसके साथ ही तेज प्रताप यादव जेपी की मूर्ति को सलाम करते हुए उन्होंने छात्र संगठन को मजबूत बनाने का संकल्प लिया. जेपी निवास में आकर तेज प्रताप ने कहा कि हमारे संगठन के सभी छात्रों और अधिकारियों की इच्छा थी कि हम यहां आएं और छात्र नरसंहार परिषद के लिए एक संकल्प लें.

हम यहां अपने छात्र संगठन के लिए भी आए हैं क्योंकि अब हमने तय कर लिया है कि जब तक हमारे शरीर में जान है हम लड़ेंगे. क्योंकि हम सत्ता के लालची नहीं है और इसके साथ ही तेज प्रताप ने कहा कि जेपी के विचार पर आधारित विषय पाठ्यक्रम से दूर नहीं जाएगा. वहीं बिहार सरकार पर निशाना साधते हुए तेज प्रताप ने कहा कि आज बिहार में बेरोजगारी, स्वास्थ्य, शिक्षा, भ्रष्टाचार आदि चरम पर है और इसे समाप्त करने का हमरा संकल्प है.

यूपी चुनाव की तैयारी में लगे राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद के बेटे तेजप्रताप, जल्द कर सकते हैं अखिलेश यादव से मुलाकात

राजद नेता तेज प्रताप छात्र संगठन को लेकर अपनी पार्टी से ही नाराज चल रहे हैं. हाल ही में आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के बड़े बेटे तेज प्रताप ने अपने छात्र संगठन का एक सिंबल भी जारी किया है. अपने संगठन के सिंबल में तेज प्रताप ने लालटेन के साथ हाथ को को शामिल किया है. बात दें कि कुछ दिन पहले पार्टी में चल रहे मतभेदों के कारण संगठन छात्र जन परिषद का ऐलान किया था.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें