सुशील मोदी ने राबड़ी को घरेलू महिला बताया तो RJD और रोहिणी से मिला ये करारा जवाब

Smart News Team, Last updated: Sun, 6th Jun 2021, 5:11 PM IST
  • राज्यसभा सांसद सुशील मोदी ने राबड़ी देवी को घरेलू महिला कहा. इस पर राजद ने सुशील मोदी से पूछा कि आजादी के 50 साल तक किसी पीएचडी होल्डर को सीएम बनाने से किसने रोका था?
राजद ने सुशील मोदी से पूछा कि 50 साल तक किसी महिला को सीएम बनने से किसने रोका?

पटना. बिहार के पूर्व उप मुख्यमंत्री और बीजेपी से राज्यसभा सांसद सुशील मोदी ने लालू यादव पर 1997 में राबड़ी देवी को मुख्यमंत्री बनाने पर निशाना साधा. उन्होंने ट्वीट करते हुए राबड़ी देवी को घरेलू महिला कहा. राजद ने सुशील मोदी पर पलटवार करते हुए कहा कि आजादी के 50 साल तक किसी पीएचडी, पोस्ट डॉक महिला को सीएम बनने से किसने रोका था? वही लालू की बेटी रोहिणी आचार्य ने कहा कि ये बताता है कि महिला के प्रति आपकी कैसी ओछी सोच है?

दरअसल, राजद सुप्रीमो लालू यादव ने संपूर्ण क्रांति दिवस पर लोगों को बधाई दी. इस पर सुशील मोदी ने ट्वीट करते हुए कहा कि घरेलू महिला राबड़ी देवी को सीधे मुख्यमंत्री बनवाकर क्या लालू प्रसाद संसदीय लोकतंत्र की व्यवस्था को दुरुस्त करने की क्रांति कर रहे थे? उन्होंने कहा कि जिसने सत्ता की बेनामी संपत्ति बनाने का निर्लज्ज माध्यम बनाकर जेपी का संपूर्ण क्रांति का विकृत मॉडल पेश किया, उन्हें संपूर्ण दिवस पर प्रायश्चित करना चाहिए.

ट्रैफिक जाम: पटना में कारगिल चौक से साइंस कॉलेज तक डबल डेकर फ्लाइओवर बनेगा

राजद राज्य कार्यकारिणी के सदस्य जयंत जिज्ञासु ने इसका जवाब देते हुए कहा कि देश आजाद हुआ 15 अगस्त 1947 को. लालू सीएम बने 10 मार्च 1990 को. बीच के 43 सालों तक किसी ने रोका था बिहार में किसी पीएचडी पोस्ट डॉक महिला को सीएम बनाने से? उन्होंने कहा कि राबड़ी देवी तो 25 जुलाई 1997 को सीएम बनीं, आजादी के 50 साल बाद. आते ही उन्होंने बिहार की हर कमिश्नरी में ओबीसी-ईबीसी लड़कियों के लिए आवासीय स्कूल खोला.

लालू यादव की छोटी बेटी रोहिणी आचार्य ने सुशील मोदी पर निशाना साधते हुए कहा कि आपकी मानसिकता बता रही है कि घरेलू महिला या महिलाओं के प्रति आपकी कैसी ओछी सोच है? उन्होंने कहा कि जिसको मां-बहनों का भी सम्मान करने का संस्कार नहीं है वो नेता तो क्या, इंसान कहलाने के लायक भी नहीं है.

CM नीतीश कुमार का निर्देश, एक ही प्लेटफॉर्म पर मिलें सभी लोकसेवाएं

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें