चारा घोटाला: दिल्ली से पटना पहुंचे RJD सुप्रीमो लालू यादव, मंगलवार को कोर्ट में होगी पेशी

Ankul Kaushik, Last updated: Mon, 22nd Nov 2021, 8:46 PM IST
  • चारा घोटाले केस में राजद सुप्रीमो लालू यादव सीबीआई की विशेष अदालत में मंगलवार 23 नवंबर को पेशी हो सकती है. वहीं जमानत पर बाहर चल रहे लालू यादव दिल्ली से पटना आ गए हैं. लालू यादव की जिस मामले में पेशी होनी है वह भागलपुर और बांका कोषागार से 46 लाख रुपये की अवैध निकासी का है.
राजद सुप्रीमो लालू यादव (फाइल फोटो)

पटना. राष्ट्रीय जनता दल (राजद) सुप्रीमो लालू यादव चारा घोटाला मामले में सीबीआई की विशेष अदालत में मंगलवार 23 नवंबर को पेशी हो सकती है. इसके लिए जमानत पर बाहर चल रहे लालू यादव दिल्ली से पटना पहुंच गए हैं. जिस चारा घोटाला मामले में लालू यादव की पेशी होनी है वह भागलपुर और बांका के कोषागार से 46 लाख रुपये की अवैध निकासी का है. लालू यादव पर आरोप है कि वह जब 1993 और 1996 के बीच मुख्यमंत्री थे तो उन्होंने पशु चिकित्सा दवाओं की खरीद के जाली बिलों की फाइलें कोषागार में जमा कराके पास कर दी थीं. इस केस में 16 नवंबर को विशेष सीबीआई न्यायाधीश प्रजेश कुमार की अदालत ने लालू यादव के अलावा, नागेंद्र पाठक और प्रकाश कुमार लाल सहित तीन आरोपियों को अदालत में पेश होने का आदेश दिया है.

बता दें कि मार्च 2012 में सीबीआई की विशेष अदालत ने इन सभी आरोपियों के खिलाफ आरोप तय किए थे. अभी तक केवल 28 आरोपियों के खिलाफ मुकदमा चला, जबकि जगन्नाथ मिश्रा, विद्या सागर निषाद सहित कुछ की मौत हो गई है. बांका भागलपुर कोषागार मामला चारा घोटाले से संबंधित एकमात्र मामला है जो बिहार में विचाराधीन है. इस मामले में सीबीआई ने लालू, पूर्व सीएम जगन्नाथ मिश्रा, पूर्व पशुपालन विभाग मंत्री विद्या सागर निषाद, पूर्व विधायक जगदीश शर्मा, आरके राणा, सेवानिवृत्त आईएएस अधिकारी बेक जूलियस, फूलचंद सिंह, अधिप चंद्र चौधरी और महेश प्रसाद के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की थी.

राजद सुप्रीमो लालू यादव की बढ़ी मुश्किलें, चारा घोटाला में कोर्ट ने कसा शिकंजा

इस मामले में सीबीआई के वकील सुनील कुमार ने सोमवार को कहा कि लालू जगन्नाथ मिश्रा के साथ 6 जून, 2017 को अदालत में पेश हुए थे. लालू यादव आरजेडी कार्यालय में पार्टी की ओर से लालटेन के उद्घाटन के कार्यक्रम में भी शामिल हो सकते हैं. लालू यादव 2 नवंबर को उपचुनाव में आरजेडी को मिली हार के बाद अगले ही दिन अपने पूरे परिवार के साथ दिल्ली वापस लौट गए थे.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें