तेजप्रताप यादव ने पटना इस्कान पर बच्चों, महिलाओं के शोषण का आरोप लगाया, लाइव सबूत देंगे

Shubham Bajpai, Last updated: Sun, 5th Sep 2021, 3:21 PM IST
  • राजद विधायक तेजप्रताप यादव ने पटना के इस्कान मंदिर में महिला और बच्चों का शोषण किए जाने का आरोप लगाया. उन्होंने कहा कि वो लाइव आकर इसके संबंध में सबूत देंगे. उन्होंने मंदिर प्रबंधन पर मंदिर बर्बाद करने का भी आरोप लगाया.
तेजप्रताप यादव ने पटना इस्कान पर बच्चों, महिलाओं के शोषण का आरोप लगाया

पटना. लगातार राजनीतिक बयानबाजी के चलते सुर्खियों में रहने वाले राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद के बेटे और राजद विधायक तेज प्रताप ने इस्कान मंदिर पटना पर फेसबुक पर लाइव आकर कई गंभीर आरोप लगाए. उन्होंने कहा कि मंदिर में महिलाओं और बच्चों का शोषण हो रहा है. इस मामले के सारे सबूत वो लाइव आकर रखेंगे. इस दौरान उन्होंने मंदिर प्रबंधन पर मंदिर को बर्बाद करने के भी आरोप लगाए. साथ ही अपने समर्थकों से इस्कान मंदिर पहुंच उन लोगों का पर्दाफाश करने को कहा.

आठ साल के बच्चे का हुआ  मंदिर में शोषण

तेजप्रताप ने कहा कि मंदिर में आठ साल के एक बच्चे के साथ मंदिर में शोषण हुआ. इसके सारे सबूत उनके पास है. जिन्हें वो लाइव आकर सभी के सामने रखेंगे. उन्होंने कहा कि मंदिर के अध्यक्ष कृष्ण कृपा दास, हरिकेशव दास, हरिप्रेम दास और प्रमोद दास ने मंदिर को पूरी तरह से बर्बाद कर दिया. जब पूरे देश में छठ का कार्यक्रम मनाया जा रहा है. तब पटना के इस्कान में कोई आयोजन नहीं किया, जिसे देख मैं हैरान रह गया.

बिहार में महंगाई भत्ते की तर्ज पर बढ़ेगी श्रमिकों की मजदूरी, 3 करोड़ लोगों को मिलेगा फायदा

मां पिता ने दान दी थी जमीन, 15 साल में भी निर्माण अधूरा

तेजप्रताप ने फेसबुक लाइव के दौरान बताया कि उनकी माता राबड़ी देवी और पिता लालू प्रसाद यादव ने इस्कान मंदिर के लिए जमीन दान दी थी, लेकिन कुछ लोगों की वजह से 15 साल बीत जाने के बाद भी मंदिर का निर्माण कार्य पूरा नहीं हो पाया है. आज मंदिर में जो स्थिति देखने को मिली वो बहुत दुखद है. इसके लिए मंदिर प्रबंधन के वो लोग ही जिम्मेदार है.

 

पटना यूनिवर्सिटी के नामांकन की मेरिट लिस्ट जारी, 60 फीसद कटऑफ पर होगा एडमिशन

तेजप्रताप सामने रखें सबूत

इस्कान मंदिर के अध्यक्ष कृष्ण कृपा दास ने कहा कि तेजप्रताप द्वारा लगाए सारे आरोप बेबुनियाद है. मंदिर परिसर में शोषण जैसी कोई घटना नहीं हुई है. यदि तेजप्रताप के पास सबूत और कागज है तो वो सामने रखें. इस्कान मंदिर से शिक्षा-दीक्षा लेने के बाद आज तेजप्रताप मंदिर को ही बदनाम कर रहे है. वहीं, कोरोना की वजह से छठी के कार्यक्रम का आयोजन नहीं किया गया.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें