बिहार चुनाव से पहले लालू, तेजस्वी को झटका, रघुवंश प्रसाद सिंह का राजद से इस्तीफा

Smart News Team, Last updated: 10/09/2020 04:26 PM IST
  • राष्ट्रीय जनता दल को एक बड़ा झटका देते हुए उनके वरिष्ठ नेता रघुवंश प्रसाद सिंह ने गुरुवार को पार्टी से इस्तीफा दे दिया. उन्होंने पार्टी के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष लालू यादव को एक पत्र भी लिखा है और कहा है कि 32 साल आपके पीठ पीछे खड़ा रहा लेकिन अब नहीं. 
रघुवंश बाबू ने राजद से इस्तीफा दिया.

पटना. बिहार चुनाव से पहले राष्ट्रीय जनता दल और लालू यादव को बड़ा झटका देते हुए उनके वरिष्ठ नेता रघुवंश प्रसाद सिंह ने गुरुवार को आरजेडी से इस्तीफा दे दिया. उन्होंने राजद अध्‍यक्ष लालू यादव को एक पत्र लिखा और कहा कि मुझे माफ कर दें. इतने साल आपके साथ खड़ा रहा लेकिन अब नहीं. बता दें कि ये पत्र उन्होंने अपने हाथ से लिखा है. वो फिलहाल दिल्ली एम्स में भर्ती हैं जबकि लालू यादव रांची में सजा काट रहे हैं और इलाज के लिए रिम्स में भर्ती हैं. 

रघुवंश सिंह ने अपने पत्र में लिखा है कि 32 सालों तक आपके पीठ पीछे खड़ा रहा लेकिन अब नहीं. पार्टी नेता, कार्यकर्ता और आमजनों ने मुझे बड़ा स्नेह दिया, मुझे क्षमा करें. रघुवंश सिंह पार्टी में लगातार अपनी उपेक्षा और अपमान से नाराज चल रहे थे. पहले तो उनके विरोधी और दबंग छवि के रमा सिंह की पार्टी में एंट्री की भरपूर कोशिश हुई. उसी दौरान लालू के बड़े बेटे तेज प्रताप यादव ने यहां तक कह दिया कि एक लोटा पानी निकल जाने से कोई फर्क नहीं पड़ता.

पटना: राजद में रामा सिंह की एंट्री पर लालू यादव की ब्रेक, रघुवंश सिंह थे नाराज

रघुवंश पार्टी के नेता तेजस्वी यादव के कामकाज के तौर-तरीके से भी खुश नहीं थे. उनका मानना था कि नीतीश कुमार की सरकार को घेरने के लिए ना कोई ढंग का बयान दिया जाता हैं और ना आंदोलन किया जाता है.

पटना AIIMS में कोरोना वैक्सीन ट्रायल का पहला चरण सफल, दूसरे चरण की शुरुआत

लालू प्रसाद यादव को ये पत्र लिखकर दिया रघुवंश बाबू ने इस्तीफा

रघुवंश प्रसाद सिंह पार्टी में धन कुबेरों को राज्यसभा चुनाव में प्राथमिकता देने और उनके वैशाली जिले में पूर्व सांसद रमा सिंह को शामिल करने की कोशिश से नाराज थे. वो पार्टी में उपाध्‍यक्ष के पद पर थे और लालू के बेहद करीबी और भरोसेमंद रहे. लालू की गैरहाजिरी में पार्टी के संचालन से नाराज हो गए थे. 

PM नरेंद्र मोदी ने बिहार में किया 294 करोड़ रुपये की योजनाओं का उद्घाटन

रघुवंश प्रसाद सिंह मनमोहन सिंह की सरकार में केंद्रीय ग्रामीण विकास मंत्री भी रह चुके हैं और मनरेगा को चालू करने का श्रेय उनको दिया भी जाता है. रघुवंश ने अपनी नाराजगी दिखाते हुए पहले भी लालू यादव को एक लेटर लिखा था. उन्होंने पार्टी में आंतरिक लोकतंत्र बहाल करने के अलावा पार्टी को और अधिक आक्रामक बनाने का सुझाव दिया था.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें