अगरबत्ती और चावल के बाद रेस्टोरेंट बिजनेस करेंगे तेजप्रताप, लालू यादव के नाम पर होंगी फ्रेंचाइजी

Haimendra Singh, Last updated: Mon, 7th Feb 2022, 12:36 PM IST
  • एलआर अगरबत्ती और एलआर एंड मल्टीग्रेन के नाम से चावल बिजनेस के बाद राजद नेता तेजप्रताप यादव रेस्टोरेंट बिजनेस में कदम रखने जा रहे है. अगरबत्ती और चावल के बाद यह बिजनेस भी पिता लालू प्रसाद के नाम पर करेंगे. तेज प्रताप ने इसका नाम ‘लालू की रसोई’ रखने की बात कही है.
रेस्टोरेंट बिजनेस में हाथ आजमाएंगे तेजप्रताप यादव.( फाइल फोटो )

पटना. राष्ट्रीय जनता दल (RJD) के राष्ट्रीय अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव(Lalu Prasad Yadav) के बड़े बेटे तेज प्रताप यादव(Tej Pratap Yadav) अगरबत्ती और चावल के बिजनेस के बाद एक नए बिजनेस की शुरुआत करने जा रहे हैं. तेजप्रताप अपने इस नए बिजनेस प्लान से सुर्खियों में आ गए हैं. एक न्यूज़ पोर्टल से बातचीत करते हुए तेज प्रताप ने अपने नए बिजनेस प्लान की जानकारी दी है. तेजप्रताप के इस कदम से एक बार फिर बिजनेसमैन के रूप में उनकी चर्चाएं शुरू हो गई हैं. खास बात यह है कि वह नए व्यापार की शुरुआत बिहार की बजाए मुंबई से करेंगे.

तेजप्रताप ने बताया है कि वह 'लालू की रसोई' नाम से ऑर्गेनिक रेस्टोरेंट के बिजनेस में कदम रखने जा रहे है. वह ऑल इंडिया लेवल पर रेस्टोरेंट की फ्रेंचाइजी देंगे. बातचीत में उन्होंने इशारा दिया है कि वह इस नए बिजनेस की शुरूआत मुंबई से करेंगे. इसके बाद रेस्टोरेंट बिजनेस को देश के अन्य शहरों में चेन सिस्टम के पर जोड़ा जाएगा. जानकारी के अनुसार, तेजप्रताप रेस्टोरेंट के कॉन्सेप्ट में बरामदे और दलान का भी प्रयोग करेंगे. इसके अलावा यहा लोगों के बैठने के लिए चौकी और खटिया भी लगाई जाएगी.

बिहार में छाया रहेगा घना कोहरा, इन इलाकों में शीतलहर का अलर्ट जारी

अगरबत्ती और चावल का व्यापार करते है तेजप्रताप

तेजप्रताप लालू की रसोई नाम से नए बिजनेस की शुरू करने जा रहे है, अपने इस नए बिजनेस प्लान से पहले वह अगरबत्ती और चावल का व्यापार भी करते है. तेजप्रताप ने एलआर(LR) नाम से अगरबत्ती कंपनी को लॉन्च किया था जिसका नाम पिता लालू प्रसाद यादव और मां रावड़ी देवी के नाम पर रखा गया है. इसके बाद उन्होंने एलआर एंड मल्टीग्रेन नाम से चावल का बिजनेस शुरू किया था, उन्होंने वादा किया था कि वह बिहार के किसानों से चावल लेकर उसे बाजार में बेचेंगे.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें