मेवालाल के इस्तीफे पर तेज प्रताप बोले-पहली बॉल में मजबूत विकेट को बैक टू पवेलियन

Smart News Team, Last updated: 20/11/2020 02:12 PM IST
बिहार में शिक्षा मंत्री के पद से मेवालाल चौधरी के इस्तीफा देने के बाद राजद नेता तेजप्रताप यादव ने कहा कि जियो मेरे खिलाड़ी, पहली बॉल में ही मजबूत विकेट को बैक टू पवेलियन कर दिया. 
तेज प्रताप सिंह ने ससुर चंद्रिका राय पर निशाना साधा.

पटना. बिहार में एनडीए की सरकार में नए शिक्षा मंत्री मेवालाल चौधरी ने गुरुवार को पदभार ग्रहण करने के महज दो घंटे के बाद ही इस्तीफा देकर सबको चौंका दिया. मेवालाल चौधरी सीएम नीतीश कुमार के एक अणे मार्ग स्थित आवास पर मिलने के बाद उन्होंने अपना इस्तीफा सौंप दिया. इस पर राजद नेता व तेजस्वी यादव के भाई तेजप्रताप यादव ने ट्वीट कर लिखा कि जियो मेरे खिलाड़ी, पहली बॉल में ही मज़बूत विकेट को बैक टू पवेलियन कर दिया. 

शिक्षा मंत्री के पद से इस्तीफे के बाद तेजस्वी यादव ने ट्वीट कर लिखा कि जनादेश के माध्यम से बिहार ने विपक्ष को एक आदेश दिया है कि सरकार की नीति, नीयत और नियम के खिलाफ आगाह करते रहें. शिक्षा मंत्री का इस्तीफा बानगी है और महज एक इस्तीफे से बात नहीं बनेगी. अभी तो 19 लाख नौकरी, संविदा और समान काम-समान वेतन जैसे अनेकों जनसरोकार के मुद्दों पर हम सरकार को घेरेंगे. 

घोटाले के आरोपों से घिरे बिहार के नव नियुक्त शिक्षा मंत्री मेवालाल का इस्तीफा

तेजस्वी यादव ने सीएम नीतीश कुमार पर हमला बोला. उन्होंने कहा कि जानबूझकर भ्रष्टाचारी को मंत्री बनाया. थू-थू के बावजूद पदभार ग्रहण कराया. घंटे बाद इस्तीफ़े का नाटक रचाया. असली गुनाहगार आप है. आपने मंत्री क्यों बनाया? आपका दोहरापन और नौटंकी अब चलने नहीं दी जाएगी?

BJP दबाव, RJD विरोध, नीतीश 3C: 72 घंटे के शिक्षा मंत्री मेवालाल का इस्तीफा

बता दें कि मेवालाल चौधरी द्वारा शिक्षा मंत्री के पद से इस्तीफा देने के बाद भवन निर्माण मंत्री अशोक कुमार चौधरी को शिक्षा विभाग का अतिरिक्त प्रभार सौंपा गया है. जदयू कोटे से विधायक मेवालाल चौधरी तारापुर विधानसभा से जीतकर आए हैं. उनको पहली बार कैबिनेट में शामिल किया गया है. उन पर भागलपुर कृषि विश्वविद्यालय के कुलपति रहने के दौरान भर्ती घोटाले के आरोप लगे थे. इस बार शिक्षा मंत्री बनाए जाने के बाद से ही उन पर भ्रष्टाचार के आरोपों को लेकर विपक्ष द्वारा निशाना साधा जा रहा था.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें