नीति आयोग की रिपोर्ट पर तेजस्वी यादव बोले, नीतीश सरकार के 16 साल बेमिसाल नहीं, बदहाल रहे

Swati Gautam, Last updated: Mon, 29th Nov 2021, 2:50 PM IST
  • नीति आयोग की रिपोर्ट के मुताबिक देश में सबसे ज्यादा करीब 52 फीसदी गरीब लोग बिहार में रहते हैं. इस पर राजद नेता तेजस्वी यादव ने मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार की सरकार को घेरे में लेते हुए कहा कि 16 साल बेमिसाल नहीं बदहाल 16 साल रहे हैं. नीति आयोग की रिपोर्ट को मुख्यमंत्री ने देखा है या नहीं.
नीति आयोग की रिपोर्ट पर तेजस्वी यादव बोले, नीतीश सरकार के 16 साल बेमिसाल नहीं, बदहाल रहे. file photo

पटना. बिहार के नेता प्रतिपक्ष और राजद नेता तेजस्वी यादव नीति आयोग की रिपोर्ट को लेकर मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार के नेतृत्व वाली एनडीए सरकार को घेरे में लेते नजर आए. उन्होंने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर जमकर निशाना साधते हुए पटना में कहा कि 16 साल बेमिसाल नहीं बदहाल 16 साल रहे हैं. उन्होंने आगे कहा कि नीति आयोग की रिपोर्ट को मुख्यमंत्री ने देखा है या नहीं. बता दें कि नीति आयोग की रिपोर्ट के मुताबिक देश में सबसे ज्यादा करीब 52 फीसदी गरीब लोग बिहार में रहते हैं.

राजद नेता तेजस्वी यादव ने मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि '16 साल बेमिसाल नहीं बदहाल 16 साल रहे हैं. नीति आयोग की रिपोर्ट को मुख्यमंत्री ने देखा है या नहीं. तेजस्वी ने सीएम नीतीश कुमार पर हमला करते हुए आगे कहा कि इस साल भी नीति आयोग के कई सूचकांक में बिहार पीछे से पहले नंबर पर है. जो व्यक्ति रिपोर्ट कार्ड पढ़ेगा ही नहीं वो क्या काम करेगा'. नीति आयोग की मल्टीडाइमेंशनल पॉवर्टी इंडेक्स में बिहार की 50 फ़ीसदी से अधिक आबादी गरीब पाई गई है. इस पर विपक्ष ने नेता नीतीश सरकार को घेरे में लेने में पीछे नहीं हट रहे हैं

बसेरा अभियान: बिहार के 90 हजार से अधिक भूमिहीनों को घर बनाने को मिली जमीन

नीति आयोग की इस रिपोर्ट को लेकर अभी तक बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की तरफ से कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है. लेकिन बिहार के पूर्व उप-मुख्‍यमंत्री और बीजेपी नेता सुशील मोदी ने रिपोर्ट पर स्पष्टीकरण देते हुए कहा है कि नीति आयोग की जिस रिपोर्ट का हवाला दिया जाता है, वह एक तो 2015-16 के छह साल पुराने आंकड़ों पर आधारित है. उन्होंने आगे कहा कि नीति आयोग को आबादी, संसाधन और क्षेत्रफल जैसे आधार पर राज्यों का वर्गीकरण करना चाहिए फिर प्रत्येक वर्ग की प्रगति का आकलन करते समय यह भी ध्यान रखना चाहिए कि दस साल पहले वह राज्य दस मुख्य मानकों पर कहां खड़ा था.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें