FIR पर बोले तेजस्वी यादव- दम है तो अरेस्ट करो, नहीं करोगे तो खुद गिरफ्तारी दूंगा

Smart News Team, Last updated: 06/12/2020 03:50 PM IST
  • कृषि कानून के विरोध में शनिवार को गांधी मैदान के बाहर बिना अनुमति के धरना देने पर हुई एफआईआर पर नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने कहा कि दम है अरेस्ट करो, नहीं करोगे तो खुद गिरफ्तारी दूंगा.
तेजस्वी यादव ने कहा कि बिहार की निक्कमी सरकार ने किसानों के पक्ष में आवाज उठाने के जुर्म में एफआईआर की है.

पटना. कृषि कानून के विरोध में बिना अनुमति के धरना देने पर तेजस्वी यादव समेत 18 नामजद और 500 अज्ञात के खिलाफ एफआईआर की गई है. जिस पर तेजस्वी यादव ने नीतीश सरकार पर हमला करते हुए कहा कि दम है तो गिरफ्तार करो, नहीं करोगे तो अपनी गिरफ्तारी खुद दे दूंगा. नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि किसानों के लिए एफआईआर क्या अगर फांसी भी देना है तो दी जाए.

कृषि कानून के विरोध में गांधी मैदान के गेट बाहर धरना देने पर हुई एफआईआर पर नेता प्रतिपक्ष ने ट्वीट करते हुए कहा कि डरपोक और बंधक मुख्यमंत्री की अगुवाई में चल रही बिहार की कायर और निक्कमी सरकार ने किसानों के पक्ष में आवाज उठाने के जुर्म में हम पर एफआईआर दर्ज की है. उन्होंने कहा कि दम है तो गिरफ्तार करो, अगर नहीं करोगे तो इंतजार के बाद स्वयं गिरफ्तारी दे दूंगा. किसानों के लिए एफआईआर क्या अगर फांसी भी देना है तो तो दी जाए.

कृषि कानून के विरोध में धरना देने पर तेजस्वी यादव पर FIR, अनुमति न लेने का आरोप

मजिस्ट्रेट श्रम प्रवर्तन पदाधिकारी राजीव दत्त वर्मा ने शनिवार को गांधी मैदान थाने में तेजस्वी यादव और बिहार कांग्रेस अध्यक्ष मदन मोहन झा समेत 18 नामजद और 500 अज्ञात के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई. पदाधिकारी ने कहा कि सभा के लिए अनमुति नहीं ली गई थी. कोविड-19 में कहीं भी 100 से ज्यादा लोग इकट्ठा नहीं हो सकते हैं और गांधी मैदान में कोरोना के दौरान भीड़ जुटाई गई.

पटना में RSS प्रमुख मोहन भागवत ने स्वयंसेवकों संग की बैठक, जताया अभार

इस पर राजद के प्रवक्ता चितरंजन गगन ने कहा कि प्रशासन को शुक्रवार को ही विधिवत रूप से धरना देने और संकल्प लेने की अनुमति मांगी गई थी. कार्यकर्ता जब मैदान के अंदर जाने लगे तो उनको रेाककर गांधी मैदान के सभी गेटों को बंद कर दिया. जिसके बाद महागठबंधन के कार्यकर्ता गांधी मैदान के गेट नंबर चार के सामने धरने पर बैठ गए.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें