राज्यसभा उपचुनाव में उम्मीदवार उतारने का इरादा कभी था ही नहींः RJD

Smart News Team, Last updated: 03/12/2020 11:57 PM IST
  • राज्यसभा उपचुनाव में उम्मीदवार न उतारने पर राजद प्रवक्ता ने कहा कि राज्यसभा उपचुनाव में उम्मीदवार उतारने का राजद का कभी भी कोई इरादा नहीं था. आपको बता दें कि राजद ने राज्यसभा उपचुनाव में सुशील मोदी के सामने अपना उम्मीदवार नहीं उतारा.
राजद ने कहा कि राज्यसभा चुनाव में उम्मीदवार उतारने को इरादा कभी था ही नहीं.

पटना. बिहार राज्यसभा उपचुनाव पर राजद के प्रवक्ता चित्तरंजन गगन ने कहा कि राजद का राज्यसभा उपचुनाव में उम्मीदवार उतारने का कोई इरादा नहीं था. आपको बता दें कि राजद ने लोजपा को चिराग पासवान  मां रीना पासवान को राज्यसभा उम्मीदवार बनाने पर समर्थन देने की बात कही थी. जिसे लोजपा ने खारिज कर दिया था. अब राजद ने भी राज्यसभा उपचुनाव के लिए कोई उम्मीदवार नहीं उतारा है.

जिस पर राजद के प्रदेश प्रवक्ता चितरंजन गगन ने कहा कि राज्यसभा उपचुनाव में उम्मीदवार खड़ा करने के लिए राजद का कभी इरादा नहीं था. उन्होंने कहा कि ये सीट दलित समुदाय से आने वाले रामविलास पासवान जी के निधन से रिक्त हुई थी. लोग चाहते थे कि बिहार के विकास में उनके महत्वपूर्ण योगदान को देखते हुए उनके सम्मान में उनकी पत्नी को उम्मीदवार बनाया जाता. ऐसा होता हर बिहार गौरान्वित महसूस करता और एक अच्छा संदेश भी जाता. 

पटना में धुंध के कारण विमान की एमरजेंसी लैंडिंग, बस से यात्रियों को दरभंगा भेजा

राजद प्रवक्ता ने कहा कि पार्टी ने राज्यसभा उपचुनाव में अपना उम्मीदवार खड़ा करने की बात आधिकारिक रूप से कभी कहीं ही नहीं गई थी. एनडीए के लोग ही ऐसा कयास लगा रहे थे क्योंकि अंतर्विरोधों की वजह से एनडीए के नेता खुद काफ सशंकित और परेशान थे. आपको बता दें कि पूर्व केन्द्रीय मंत्री रामविलास पासवान के निधन से खाली हुई राज्यसभा सीट पर बीजेपी ने बिहार के पूर्व उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी को उम्मीदवार बनाया है.

पटना रिंग रोड के 14 किमी. का भूमि अधिग्रहण का खर्च अब केन्द्र सरकार उठाएगी

राज्यसभा उपचुनाव के लिए राजद के कोई उम्मीदवार न उतारने से सुशील मोदी निर्विरोध जीत होगी हालांकि उनके खिलाफ निर्दलीय प्रत्याशी श्याम नंदन प्रसाद ने बुधवार को नामांकन दाखिल किया है. नामांकन के लिए 10 विधायकों का समर्थन पत्र जरूरी होता है जो उन्होंने अभी तक उन्होंने नहीं दिया है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें