केंद्र ना माने तो बिहार सरकार के पैसे से जाति जनगणना कराएं नीतीश: तेजस्वी यादव

Smart News Team, Last updated: Thu, 29th Jul 2021, 4:03 PM IST
  • बिहार विधनसभा परिसर में पत्रकारों से बात करते हुए राजद नेता तेजस्वी यादव ने एक बार फिर से जातीय जनगणना को लेकर बयान दिया है. इस बार राजद नेता तेजस्वी यादव ने कहा है कि अगर केंद्र सरकार नीतीश सरकार की बात नहीं मानती है तो राज्य सरकार अपने खर्चे पर जातिगत जनगणना कराए.
नीतीश सरकार अपने खर्चे पर प्रदेश में जातिगत जनगणना कराए- तेजस्वी यादव

पटना. केंद्र सरकार की जनगणना को लेकर बिहार में पक्ष और विपक्ष की एक ही राय है कि इस बार जातिगत जनगणना होनी चाहिए. वहीं एक बार फिर से राजद नेता तेजस्वी यादव ने जातिगत जनगणना को लेकर बयान दिया है. तेजस्वी यादव ने विधानसभा परिसर में पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि हम बिहार की नीतीश सरकार से भी कह चुके हैं कि वह जातिगत आधार पर जनगणना के लिए एक कमेटी बनाकर पीएम नरेंद्र मोदी से बात करें. अगर केंद्र सरकार उनकी बात नहीं मानती है तो राज्य सरकार अपने खर्चे पर प्रदेश में जातिगत जनगणना कराए.

इससे पहले राजद नेता ने केंद्र सरकार की जनगणना को लेकर कहा था कि अगर सरकार जानवरों, साइकिलों, स्कूटरों की गणना कर सकती है, तो जातिगत जनगणना में क्यों नहीं हो सकती है. वहीं केंद्र सरकार के जातिगत जनगणना न करने पर जदयू के राष्ट्रीय महासचिव केसी त्यागी ने कहा था कि सरकार के इस फैसले से हम निराश और आहत हैं. देश में जाति आधारित जनगणना आवश्यक है इससे पिछड़े लोगों के विकास में फायदा होगा.

CM नीतीश कुमार बोले- एक बार जरूर होनी चाहिए जातीय आधार पर जनगणना  

वहीं बिहार के सीएम नीतीश कुमार ने भी साफ कहा दिया है कि अगली जनगणना जातिगत आधार पर कराई जाए. राज्य सरकार जातिगत जनगणना के लिए केंद्र सरकार को प्रस्ताव भी भेजेगी. इससे एससी, एसटी के अलावा भी जो कमजोर वर्ग हैं, उनकी वास्तविक संख्या की जानकारी होगी. बिहार में पक्ष और विपक्ष दोनों केंद्र सरकार के जातिगत जनगणना न करने के फैसले से नाराज हैं. अब देखना ये है कि नीतीश सरकार की कमेटी पीएम मोदी से इस मामले पर बात करेगी या नहीं.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें