उपेंद्र कुशवाहा की रालोसपा 2 फरवरी से चौपाल लगाकर बताएगी कृषि कानूनों की कमियां

Smart News Team, Last updated: Fri, 29th Jan 2021, 4:40 PM IST
  • उपेन्द्र कुशवाहा ने कहा कि हमारी पार्टी 2 फरवरी से सभी जिला मुख्यालयों पर किसान चौपाल लगाकर लोगों को इन कानूनों का सच बताएगी. उन्होंने कहा लाल किले पर हुए घटनाक्रम को किसानों के आंदोलन से जोड़कर नहीं देखा जाना चाहिए.
RLSP 2 फरवरी से जिला मुख्यालयों पर चौपाल लगाकर 3 कृषि कानूनों की कमिया बताएंगी

पटना: राष्ट्रीय लोक समता पार्टी के अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा ने शुक्रवार को पार्टी कार्यालय में मीडिया से बातचीत में कहा कि केंद्र सरकार के कृषि कानून चंद पूंजीपतियों को लाभ पहुंचाने वाले हैं. हमारी पार्टी 2 फरवरी से सभी जिला मुख्यालयों पर किसान चौपाल लगाकर लोगों को इन कानूनों का सच बताएगी. उन्होंने कहा लाल किले पर हुए घटनाक्रम को किसानों के आंदोलन से जोड़कर नहीं देखा जाना चाहिए.

राष्ट्रीय लोक समता पार्टी के ट्विटर हैन्डल से मिली जानकारी के अनुसार .  “भारत लेनिन अमर शहीद जगदेव बाबू जी के जयंती के दिन से रालोसपा साथियों द्वारा बिहार भर में 10 हज़ार किसान चौपाल का आयोजन किया जाएगा. किसान आंदोलन के समर्थन में किसान विरोधी काले कानून की प्रतियां जलाकर राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री उपेंद्र कुशवाहा जी इसकी शुरुआत करेंगे” 

आपको बताते चलें की उपेन्द्र कुशवाहा की पार्टी ने 8 दिसंबर को तीन कृषि कानूनों के विरोध में भारत बन्द का भी समर्थन किया था. रालोसपा के नेताओं ने कहा कि केंद्र सरकार (Modi Government) तीनों कृषि कानूनों को रद्द करे ताकि देश के अन्नदाता कारपोरेट घराने के हाथों तबाह होने से बचें.

BJP नेता शाहनवाज हुसैन और VIP प्रमुख मुकेश साहनी ने ली विधान परिषद सदस्य की शपथ

पार्टी का मानना है कि नया कृषि बिल किसान विरोधी है और इससे खेती-किसानी को खत्म कर इसे कारपोरेट घरानों के सौंपने की साजिश केंद्र सरकार रच रही है. रालोसपा (RLSP) इसका कड़े शब्दों में निंदा करती है. रालोसपा का मानना है कि केंद्र किसानों का दमन करने पर तुली है ताकि कारपोरेट घराने को फायदा पहुंचाया जा सके.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें