JDU की शिकायत पर लालू के लाल तेज प्रताप पर FIR, 2020 विधानसभा चुनाव से जुड़ा केस

Ankul Kaushik, Last updated: Thu, 30th Dec 2021, 2:54 PM IST
  • जदयू की शिकायत पर राजद सुप्रीमो लालू यादव के बड़े लाल तेजप्रताप यादव के खिलाफ समस्तीपुर के रोसड़ा थाने में एफआईआर दर्ज की गई है. तेजप्रताप के खिलाफ बिहार विधानसभा चुनाव 2020 में गलत शपथ पत्र देने का आरोप है.
तेजप्रताप यादव के खिलाफ एफआईआर दर्ज

पटना. राजद सुप्रीमो लालू यादव के बड़े लाल तेजप्रताप यादव के खिलाफ समस्तीपुर के रोसड़ा थाने में जदयू की शिकायत पर एफआईआर दर्ज की गई है. जिस मामले में तेजप्रताप यादव के खिलाफ शिकायत की गई है वह 2020 बिहार विधानसभा चुनाव से जुड़ा मामला है. राजद विधायक तेजप्रताप के खिलाफ चुनाव आयोग द्वारा जांच के बाद एफआईआर की गई है. तेजप्रताप के खिलाफ समस्तीपुर के रोसेड़ा थाने में रिप्रेजेंटेशन एक्ट 1951 की धारा 125ए के तहत केस दर्ज किया गया है. एफआईआर के लिए दिए गए आवेदन में यह आरोप लगाया गया है कि तेज प्रताप यादव ने राष्ट्रीय जनता दल के उम्मीदवार के रूप में 13 अक्टूबर, 2020 को नामांकन पत्र दाखिल किया था. राजद विधायक तेजप्रताप ने नामांकन के समय अपने हलफनामे में अचल संपत्ति की जानकारी छिपाई थी जिसकी शिकायत जदयू ने बिहार के निर्वाचन पदाधिकारी से की थी.

जदयू द्वारा की गई शिकायत की एक कॉपी भारतीय चुनाव आयोग को भेजी गई, जिसने केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) को जांच के लिए लिखा. इसके बाद सीबीडीटी ने इस मामले की जांच के बाद निष्कर्ष निकाला कि बिहार विधानसभा चुनाव 2015 और 2020 के लिए तेज प्रताप यादव द्वारा दायर हलफनामों के बीच संपत्ति (चल और अचल) में 82,40867 रुपये की वृद्धि हुई थी. जबकि आयकर के अनुसार वित्तीय वर्ष 2015-16 से 2016-20 तक कुल आय 22,76220 रुपये है.

तेजप्रताप यादव ने गरीब बच्ची को दिलाया आईफोन, बोले फोन से पढ़ाई करना

इतना ही नहीं सीबीडीटी के रिकॉर्ड में तेज प्रताप द्वारा दिए गए हलफनामें में गोपालगंज संपत्ति भी सही नहीं पाई गई है. वहीं सीबीडीटी की जांच के बाद चुनाव आयोग ने हसनपुर विधायक तेज प्रताप यादव को हलफनामे में गलत जानकारी देने पर कारण बताओ नोटिस भेजा था. तेजप्रताप को तीन हफ्ते के अंदर जवाब देने को कहा गया है. राजद विधायक तेजप्रताप ने इस नोटिस का समय से जवाब नहीं दिया इसके बाद उनके खिलाफ केस दर्ज किया गया.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें