संघ की क्षेत्रीय बैठक में हिस्सा लेने पटना आ रहे हैं RSS प्रमुख मोहन भागवत

Smart News Team, Last updated: 02/12/2020 10:39 PM IST
  • राष्ट्रीय स्वयंसेवक के प्रमुख मोहन भागवत 4 दिसंबर को संघ की क्षेत्रीय बैठक में हिस्सा लेने के लिए पटना आ रहे हैं. आरएसएस प्रमुख के साथ नेता भैयाजी जोशी में इस बैठक में शामिल होंगे.
RSS प्रमुख मोहन भागवत संघ की क्षेत्रीय बैठक के लिए पटना आ रहे हैं

पटना. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ प्रमुख मोहन भागवत 4 दिसंबर को पटना आ रहे हैं जो पटना में आयोजित संघ की क्षेत्रीय बैठक में हिस्सा लेंगे. भागवत के साथ संघ के प्रमुख नेता भैयाजी जोशी भी होंगे. पटना में 5 दिसंबर से आरएसएस की पूर्वोत्तर जोन की कार्यकारिणी बैठक है जिसमें भागवत और जोशी हिस्सा लेंगे. आरएसएस सूत्रों के अनुसार इस मीटिंग में जोन के करीब 40 पदाधिकारी हिस्सा लेंगे जो संघ के चल रहे काम की समीक्षा करेंगे और आगे की रणनीति बनाएंगे.

आरएसएस के दक्षिण बिहार के प्रांत प्रचारक राजेश पांडे ने बताया कि पहले प्रयागराज में अखिल भारतीय कार्यकारिणी बैठक होनी थी लेकिन कोरोना की वजह से वो टल गई और तय हुआ कि राष्ट्रीय स्तर के बदले क्षेत्रीय स्तर पर बैठकों का आयोजन किया जाए. आरएसएस ने कामकाज की सुविधा के लिए देश को 11 जोन में बांटा है. पटना में पूर्वोत्तर जोन की मीटिंग हो रही है. पटना में आयोजित ये मीटिंग दो दिन चलेगी जिसमें समाज पर कोरोना के असर पर भी चर्चा होगी. 

RJD चुनाव नतीजा कमिटी पता करेगी- सरकार बना रहे तेजस्वी विपक्ष में कैसे लटक गए

बिहार में नीतीश कुमार की नई सरकार के कामकाज संभालते ही आरएसएस चीफ के आगमन को लेकर राजनीतिक सरगर्मी तेज हो गई है. सुशील मोदी की जगह डिप्टी सीएम बने तारकिशोर प्रसाद और रेणु देवी संघ बैकग्राउंड से ही आते हैं. माना जा रहा है कि मोहन भागवत के पटना प्रवास के दौरान कई बीजेपी नेता और मंत्री उनसे मुलाकात कर सकते हैं. संघ भी बिहार के साथ-साथ पश्चिम बंगाल और झारखंड में अपने पांव मजबूत करने की योजना पर काम कर रहा है. 

राज्यसभा उपचुनाव: सुशील कुमार मोदी ने किया नामांकन, सीएम नीतीश रहे मौजूद

भागवत के आने पर आरजेडी प्रवक्ता प्रेमचंद्र मिश्रा ने अलग ही सुर पकड़ लिया है. मिश्रा ने कहा कि भागवत आरएसएस के छुपे हुए एजेंडा को लागू करने बिहार आ रहे हैं. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार अब आरएसएस के आदमी बन गए हैं. वो सिर्फ एक कठपुतली सीएम हैं और उनका रिमोट कंट्रोल अब बीजेपी और आरएसएस के हाथ में है. 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें