पटना डीएम का फैसला, किस दिन खुलेगी कौन सी दुकान, पूरा शेड्यूल जानें

Smart News Team, Last updated: Mon, 19th Apr 2021, 9:51 PM IST
  • पटना के डीएम डॉक्टर चंद्रशेखर ने बड़ा फैसला लिया है. पटना में आवश्यक सेवा से संबंधित जुड़ी दुकानों को छोड़कर शेष अन्य प्रकार की दुकानों को सप्ताह में 3 दिन ही खुला रखने का निर्देश पटना के डीएम ने जारी किया है.
पटना डीएम का फैसला, किस दिन खुलेगी कौन सी दुकान, पूरा शेड्यूल जानें (फाइल फ़ोटो)

पटना: बिहार और राजधानी पटना में बढ़ रहे कोरोना संक्रमण के बीच पटना के डीएम डॉक्टर चंद्रशेखर ने बड़ा फैसला लिया है. पटना में आवश्यक सेवा से संबंधित जुड़ी दुकानों को छोड़कर शेष अन्य प्रकार की दुकानों को सप्ताह में 3 दिन ही खुला रखने का निर्देश पटना के डीएम ने जारी किया है. इसके लिए पटना डीएम ने दुकानों से संबंधित दिन का निर्धारण कर दिया है. अनिवार्य सेवा से जुड़ी दुकाने रोज खुलेंगे लेकिन कपड़ा मोबाइल सोना चांदी चप्पल जूता बर्तन खेलकूद सैलून फर्नीचर आदि की दुकानें सप्ताह में 3 दिन ही खुली रहेंगे. पटना के डीएम ने लोगों से अपील करते हुए कहा है कि सरकार की ओर से जारी गाइडलाइन का पालन करने का अनुरोध किया.

प्रतिदिन खुलने वाली दुकानों/ प्रतिष्ठानों की सूची

जैसे:- किराना, मेडिकल, प्राइवेट क्लीनिक, ई - कॉमर्स, फल सब्जी, पशु चारा, गैरेज, मोची, दूध, होम डिलीवरी रेस्टोरेंट, अनाज मंडी, मीट की दूकान, गाड़ी नंबर लिखने वाले/ हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट, पेट्रोल पंप, गैस एजेंसी, हार्डवेयर, निर्माण सामाग्री,

लखनऊ के 96 निजी अस्पतालों में कोरोना इलाज की सुविधा, सरकार करेगी निगरानी

सोमवार, बुधवार और शुक्रवार को खुलने वाली दुकानें

इलेक्ट्रिकल गुड्स सेल और मरम्मत, इलेक्ट्रॉनिक्स सेल और मरम्मत, सैलून, फर्नीचर, आभूषण,

मंगलवार, गुरुवार और शनिवार को खुलने वाली दुकानें

कपड़ा, जूता चप्पल, ड्राइक्लीनर्स, बर्तन, स्पोर्ट्स इक्विपमेंट, कृषि कार्य, अन्य शेष दुकानें जो सूची में नहीं हैं.

HC ऑर्डर के बावजूद पांच जिलों में नहीं लगेगा लॉकडाउन, जानें क्या बोली योगी सरकार

जिलाधिकारी ने सर्कुलर में कहा कि सभी दुकानें निर्धारित दिन और शाम के 6 बजे तक खुली रहेंगी. निर्देश को सख्ती से पालन कराने को लेकर जिलाधिकारी ने सक्षम पदाधिकारी को कई आवश्यक दिशा निर्देश भी दिए है. नियमों का पालन नहीं करने वालों पर कानूनी कर्रवाई की जायेगी.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें