शराबबंदी राज में शराबी ने घर में लगा दी आग

Malay, Last updated: 23/11/2019 12:53 AM IST
शराबबंदी राज है। दावा शराबमुक्त बिहार को लेकर है। कड़े कानून के सहारे शराबबंदी का पालन कराया जा रहा है। इस अपराध में तीन लाख लोग जेल में हैं और सजा दिलाने का काम किया जा रहा है। ऐसे राज्य की राजधानी...
पत्नी को पीटा फिर सिलेंडर में लगा दी माचिस, गर्दनीबाग थाना क्षेत्र के अम्बेडकर नगर की घटना

शराबबंदी राज है। दावा शराबमुक्त बिहार को लेकर है। कड़े कानून के सहारे शराबबंदी का पालन कराया जा रहा है। इस अपराध में तीन लाख लोग जेल में हैं और सजा दिलाने का काम किया जा रहा है। ऐसे राज्य की राजधानी में शुक्रवार की सुबह हुई घटना ने शराबबंदी की पोल खोल दी है। दिनदहाड़े पति ने शराब पीकर पहले घर में हंगामा मचाकर पत्नी की पिटाई की, बाद में गैस सिलेंडर में आग लगा दी। पत्नी ने पुलिस को फोन किया, लेकिन तब तक आसपास के लोगों ने आग बुझा दिया। आरोपित पति घर छोड़कर फरार हो गया। 

शराब के नशे में पत्नी को पीटने लगा
पति ने पत्नी को पीटना शुरू कर दिया। काफी मारने-पीटने के बाद पति ने रसोई घर में रखे गैस सिलेंडर में आग लगा दी। आग विकराल रूप घारण करने लगी। घर में रखे कपड़े और रसोई के सामान जलने लगे। पत्नी के शोर मचाने पर आसपास के लोग मौके पर जुट गए और किसी तरह से आग पर काबू पाया। घटना की जानकारी पत्नी ने फोन से पुलिस को दे दी। सूचना मिलते ही मौके पर पुलिस पहुंची, लेकिन तब तक पति फरार हो गया। गर्दनीबाग थानाध्यक्ष का कहना है कि फोन से शराबी की पत्नी ने शिकायत की थी, लेकिन लिखित आवेदन नहीं दिया है। मामले की जांच की जा रही है।

नशे में भूल गया घर-परिवार 
शुक्रवार को गर्दनीबाग थाना क्षेत्र के अम्बेडकर चौक के पास रहने वाले एक युवक ने जमकर नशा कर लिया। सुबह दस बजे के आसपास जब वह नशे में धुत हो गया तो घर में बवाल काटाने लगा। घर में पत्नी ने जब शराब पीने का विरोध किया तो पति ने घर में तोड़फोड़ करना शुरू कर दिया। पत्नी बार-बार विरोध करती रही, लेकिन पति पर कोई असर नहीं पड़ा। 

तस्करों की सक्रियता से दम तोड़ रहा कानून 
पटना में शराब तस्करों की सक्रियता से कानून दम तोड़ रहा है। शराबबंदी के कड़े कानून में शराब कहां से आ रही है, यह बड़ा सवाल है। थानों की पुलिस के साथ उत्पाद विभाग भी शराब तस्करों के पीछे है। इसके बाद भी धंधा जोर-शोर से चल रहा है। पटना में आये दिन पकड़ी जा रही शराब की भारी खेप शराबबंदी कानून में तस्करों की सक्रियता बताने के लिए काफी है। सूत्रों की मानें तो पीने के शौकीन को घर बैठे शराब मिल जाती है। इस मामले में तो पुलिस पर भी सक्रियता का आरोप लग चुका है। 

शराब बढ़ा रही घरेलू हिंसा 
शराबबंदी का बड़ा फायदा घरेलू हिंसा पर पड़ा था। शराबबंदी के तत्काल बाद जब पुलिस और उत्पाद विभाग की सख्ती अधिक रही तो घरेलू हिंसा के मामलों में काफी कमी आई थी, लेकिन इधर फिर मामले बढ़ने लगे हैं। पुलिस की चूक से बढ़ी शराब तस्करों की सक्रियता के कारण अपराध का ग्राफ बढ़ा है। इसमें घर में मारपीट के साथ अन्य घटनाएं शामिल हैं। गुरुवार को चिरैयाटाड़ पुल के नीचे एक युवक को दूसरे ने इसलिए चाकू मार दिया कि उसने शराब के बदले शराब नहीं पिलाई।

अन्य खबरें