पटना

दारोगा अभ्यर्थियों ने किया जूता पॉलिश, पुलिस का लाठीचार्ज

Malay, Last updated: 20/02/2020 09:28 AM IST
पिछले साल दिसंबर में हुई दारोगा भर्ती परीक्षा में धांधली का आरोप लगा अभ्यर्थी लगातार प्रदर्शन कर रहे हैं। बुधवार को यह तीसरा मौका था, जब अभ्यर्थी सड़क पर उतरे। दो माह में तीन बार सड़क जाम की गई और हर...
शहर के डाकबंगला चौराहे पर बुधवार को प्रदर्शन कर रहे दारोगा परीक्षा अभ्यर्थियों पर लाठीचार्ज करती पुलिस।

पिछले साल दिसंबर में हुई दारोगा भर्ती परीक्षा में धांधली का आरोप लगा अभ्यर्थी लगातार प्रदर्शन कर रहे हैं। बुधवार को यह तीसरा मौका था, जब अभ्यर्थी सड़क पर उतरे। दो माह में तीन बार सड़क जाम की गई और हर बार पुलिस को जूझना पड़ा। इस बार अभ्यर्थी पुलिस की आंख में धूल झोंककर डाकबंगला चौराहे पर पहुंच गए। शहर का प्रमुख चौराहा जाम होते ही पुलिस महकमा परेशान हो गया और भारी पुलिस बल की तैनाती की गई। इधर अभ्यर्थी सड़क से हटने को तैयार ही नहीं थे। पटना जंक्शन रोड, गोलंबर रोड, एग्जीबिशन रोड और बेली रोड पर लंबा जाम लग गया। सड़क के साथ ट्रैफिक बूथ पर भी अभ्यर्थियों ने कब्जा जमा लिया। नारेबाजी करते हुए छात्र अपनी मांगें मनवाने के लिए दम भरते रहे। पुलिस की चौकसी पर प्रदर्शनकारी भारी पड़े। पुलिस ने दीपेश, विवेक और अर्जुन को गिरफ्तार किया है। लाठीचार्ज में दिलीप, मनीष, अभिषेक, राहुल, सुधीर और विकास को चोट आई है।

परेशान हुए लोग
दारोगा भर्ती अभ्यर्थियों के प्रदर्शन से शहर की सड़कें घंटों जाम रहीं। रामगुलाम चौक से लेकर डाकबंगला चौराहे तक लोगों को परेशानी हुई। डाकबंगला से रेलवे स्टेशन, गांधी मैदान और बोरिंग रोड जाने वालों को जाम से जूझना पड़ा। डाकबंगला चौराहा जाम होते ही पुलिस ने रूट डायवर्ट किया, लेकिन वाहनों की कतार से गलियां भी जाम हो गईं। शहर के  अन्य प्रमुख मार्गों पर भी जाम लग गया।

अभ्यर्थियों  की तीन मुख्य मांगें
1- दिसंबर 2019 में आयोजित हुई दारोगा बहाली परीक्षा को रद्द किया जाए।
2- दारोगा बहाली परीक्षा में हुई धांधली की सीबीआई जांच कराई जाए।
3- महिला अभ्यर्थियों की लंबाई 160 से घटाकर 155 सेमी निर्धारित  की जाए।

इनके द्वारा तीसरी बार डाकबंगला जाम करने की घटना की गई है। तीन अभ्यर्थियों को गिरफ्तार किया गया है और दर्जनों अज्ञात पर मुकदमा दर्ज करने की कार्रवाई की गई है।  
- एम एस खान, मजिस्ट्रेट 

अन्य खबरें