कोरोना से बचाव के लिए हर स्तर पर चलेगा अभियान

Malay, Last updated: 19/02/2020 04:18 PM IST
बिहार में कोरोना वायरस के संदिग्ध मरीजों की पहचान को लेकर 30 हजार 822 हेल्थ वर्करों को प्रशिक्षित किया गया है। इनमें ग्रामीण क्षेत्रों में स्थित अस्पतालों में कार्यरत एएनएम, कंपाउंडर सहित अन्य हेल्थ...
Mother-son investigation report Corona not confirmed

बिहार में कोरोना वायरस के संदिग्ध मरीजों की पहचान को लेकर 30 हजार 822 हेल्थ वर्करों को प्रशिक्षित किया गया है। इनमें ग्रामीण क्षेत्रों में स्थित अस्पतालों में कार्यरत एएनएम, कंपाउंडर सहित अन्य हेल्थ वर्कर शामिल हैं। स्वास्थ्य विभाग द्वारा केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के निर्देश पर कोरोना से बचाव, नियंत्रण, जांच व इलाज को लेकर हर स्तर पर तैयारी की जा रही है। जेई और एईएस से हर वर्ष फजीहत झेल रहा स्वास्थ्य विभाग कोरोना वायरस की भयावहता को लेकर कोई भी रिस्क लेना नहीं चाहता है। बिहार में अबतक कोरोना के 28 संदिग्ध मरीजों को चिह्नित किया गया है और उन्हें 28 दिनों तक सर्विलांस पर रखा गया है। स्वास्थ्य विभाग प्रतिदिन जिलों से रिपोर्ट ले रह है और राज्य व केंद्र सरकार द्वारा संयुक्त रूप से निगरानी की जा रही है। 

केंद्रीय टीम स्वास्थ्य शिविरों का करेगी मुआयना 
केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा बिहार के नेपाल से सटे इलाकों में जांच के लिए भेजी गयी उच्चस्तरीय टीम मंगलवार को उत्तर बिहार के विभिन्न जिलों का दौरा किया। टीम के सदस्य व डॉ. राम मनोहर लोहिया अस्पताल, नई दिल्ली के सीनियर फिजिशियन डॉ. हरीश गुप्ता ने बताया कि टीम के सदस्य नेपाल से सटे इलाकों में गए।

3447 हजार स्कूलों में चलाया गया जागरूकता अभियान 
स्वास्थ्य विभाग से प्राप्त जानकारी के अनुसार राज्य में 3447 स्कूलों में कोरोना वायरस को लेकर जागरूकता अभियान चलाया गया है। वहीं, 2133 पंचायतीराज संस्थाओं में निर्वाचित प्रतिनिधियों को भी जागरूक किया गया है। दूसरी ओर, सभी जिला स्तरीय अस्पतालों में पांच बेड के आइसोलेशन वार्ड बनाए गए हैं। मेडिकल कॉलेज अस्पतालों में भी 10से 20 बेड के आइसोलेशन वार्ड बने हैं।कोरोना से बचाव के लिए हर स्तर पर चलेगा अभियान

अन्य खबरें