फ्रेजर रोड पहुंची मेट्रो की खुदाई

Malay, Last updated: 24/12/2019 11:20 AM IST
पटना में मेट्रो निर्माण के तहत सड़क खुदाई का कार्य फ्रेजर रोड तक पहुंच गया है। पटना जंक्शन के ठीक आगे फ्रेजर रोड पर वर्तमान में जमीन के अंदर सुरंग निर्माण के लिए मिट्टी की जांच चल रही है। बुद्धा पार्क...
फ्रेजर रोड पर भी मेट्रो का कार्य शुरू हो गया है। सड़क को कुछ जगहों पर घेर दिया गया है। खुदाई कर मेट्रो के लिए सुरंग बनाई जाएगी। यहां की मिट्टी जांच के लिए भेजी जा चुकी है।

पटना में मेट्रो निर्माण के तहत सड़क खुदाई का कार्य फ्रेजर रोड तक पहुंच गया है। पटना जंक्शन के ठीक आगे फ्रेजर रोड पर वर्तमान में जमीन के अंदर सुरंग निर्माण के लिए मिट्टी की जांच चल रही है। बुद्धा पार्क के बायीं ओर सड़क पर काम शुरू हो चुका है। यहां पटना मेट्रो का बोर्ड भी लग गया है। बता दें पटना जंक्शन तक अंडरग्राउंड मेट्रो का संचाालन प्रस्तावित है। पटना में दो कॉरीडोर हैं। फ्रेजर रोड पर दूसरे कॉरीडोर के तहत पहला कार्य शुरू हुआ है। यह कॉरीडोर दानापुर कैंट स्टेशन से शुरू होगा। इसके बाद  सगुना मोड़ होते हुए राजा बाजार, हाईकोर्ट, डाकबंगला और फिर पटना जंक्शन पहुंचेगा। पटना मेट्रो रेल कॉरपोरेशन के अधिकारियों ने बताया कि शहर में मेट्रो का काम तेजी से हो रहा है। अभी शहर के कई इलाकों से मिट्टी के नमूने लिए जा रहे हैं, जिससे यह पता चल सके कि कहां कैसा और कितना काम करना होगा। 

मिट्टी जांच के बाद क्या
फ्रेजर रोड में मिट्टी की जांच के लिए खुदाई कर रहे इंजीनियर बताते हैं कि यह सबसे अहम है। पटना में कितने लेयर की मिट्टी है, इस जांच से ही पता चलेगा। साथ ही जमीन के अंदर निर्माण के दौरान किस तरह के तकनीक का इस्तेमाल जरूरी होगा, यह भी जांच के बाद ही तय होगा। सड़क के नीचे 80 से 100 फीट तक मिट्टी का नमूना लिया जा रहा है। इस पर शोध के बाद ही निर्माण की प्रक्रिया शुरू हो पाएगी। 

उत्तर-दक्षिण कॉरीडोर में इन जगहों पर बनेंगे स्टेशन
पटना जंक्शन, डाकबंगला, गांधी मैदान, करगिल चौक, पीएमसीएच, पटना विश्वविद्यालय, प्रेमचंद रंगशाला, राजेंद्र नगर टर्मिनल, एनएमसीएच, कुम्हरार, गांधी सेतु, ट्रांसपोर्ट नगर, अंतरराष्ट्रीय बस अड्डा, जीरो माइल, आयकर कॉलोनी, कंकड़बाग, लोहियानगर, मीठापुर चौक, मीठापुर बस स्टैंड

पूरब-पश्चिम कॉरीडोर में यहां बनेंगे स्टेशन
दानापुर कैंट, शताब्दी स्मारक, सगुना मोड़, आरपीएस मोड़, आईएएस कॉलोनी, रुकनपुरा, राजाबाजार, जेडी वीमेंस कॉलेज, राज भवन, विकास भवन, हाई कोर्ट, आयकर गोलंबर, डाकबंगला

2024 तक बनकर तैयार होंगे दोनों कॉरीडोर
पटना मेट्रो रेल कॉरपोरेशन ने अगले चार साल में दोनों कॉरीडोर को बनाने का लक्ष्य तय किया है। पहले फेज में अंतरराष्ट्रीय बस अड्डे से जीरो माइल, बाइपास के रास्ते राजेंद्र नगर टर्मिनल तक बनाया जा रहा है। यही कॉरीडोर बाइपास से मीठापुर बस स्टैंड होते हुए पटना जंक्शन तक पहुंच जाएगा। फिर पटना जंक्शन से फ्रेजर रोड होते हुए गांधी मैदान से अशोक राजपथ में साइंस कॉलेज तक अंडर ग्राउंड मेट्रो का निर्माण किया जाना है। अशोक राजपथ से दक्षिण की ओर घूमकर राजेंद्र नगर टर्मिनल तक चला जाएगा। दानापुर से आने वाली मेट्रो बेली रोड से पटना जंक्शन तक आएगी। 

6 साल कागजों में दौड़ी मेट्रो
- 2013 18 जून को राज्य सरकार ने राइट्स को मेट्रो की डीपीआर बनाने के लिए अधिकृत किया। 
- 2016 राइट्स ने डीपीआर दी। केंद्र सरकार के पास स्वीकृति के लिए भेजी गई। आपत्तियों के साथ वापस आई डीपीआर।
- 2017 संशोधित डीपीआर केंद्र सरकार के पास फिर भेजा गया। नई मेट्रो नीति के तहत बनाने का कहकर वापस आ गई।
- 2019 13 फरवरी को केंद्रीय कैबिनेट ने मंजूरी दे दी। इसके बाद पटना में मेट्रो का काम तेजी से शुरू हो गया।

15 किमी ऊपर, 15 किमी सुरंग में चलेगी
पटना मेट्रो रेल 15 किलोमीटर तक एलिवेटेड पुल पर चलेगी। इसमें ज्यादातर हिस्सा बाइपास पर होगा, जबकि 15 किलोमीटर हिस्सा जमीन के अंदर सुरंग में होगा। बेली रोड पर दानापुर से गोला रोड तक एलिवेटेड पुल का निर्माण किया जाना है। रुपसपुर नगर से मेट्रो जमीन के अंदर हो जाएगी। इसके बाद पटना जंक्शन तक यह अंदर ही चलेगी। गांधी मैदान से अशोक राजपथ, पीएमसीएच, साइंस कॉलेज से राजेंद्र नगर टर्मिनल तक अंडर ग्राउंड ही चलेगी। इसके लिए आने वाले समय में सुरंग तैयार की जानी है।

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें