विशेषज्ञों का दावा: कोरोना वायरस के संक्रमण से गुजरात, इंदौर में हुर्ईं ज्यादातर मौतें

Malay, Last updated: 28/04/2020 02:38 PM IST
कोरोना वायरस के संक्रमण से गुजरात बुरी तरह से प्रभावित है। गुजरात में मृत्यु की दर लगातार बढ़ती जा रही है। फिलहाल गुजरात कोरोना से हुई मौतों के मामले में महाराष्ट्र के बाद दूसरे नंबर पर...
corona virus in india

कोरोना वायरस के संक्रमण से गुजरात बुरी तरह से प्रभावित है। गुजरात में मृत्यु की दर लगातार बढ़ती जा रही है। फिलहाल गुजरात कोरोना से हुई मौतों के मामले में महाराष्ट्र के बाद दूसरे नंबर पर है। 

विशेषज्ञों के अनुसार गुजरात और मध्यप्रदेश के इंदौर में मौत के बढ़ते आंकड़ों के पीछे कोरोना का एल-स्ट्रेन वायरस हो सकता है, जो कि इसका सबसे घातक स्ट्रेन है। गुजरात बायोटेक्नोलाजी रिसर्च सेंटर का दावा है कि लैब में कोरोना के डीएनए को डिकोड किया गया है। इसमें पाया गया है कि गुजरात में कोरोना का जो वायरस है, वो कोरोना का सबसे खतरनाक वायरस यानी कि एल टाइप स्ट्रेन है। 

गुजरात बायोटेक्नॉलजी रिसर्च सेंटर के डायरेक्टर सीजी जोशी का दावा है कि जिस भी देश में मृत्यु की दर ज्यादा है, वहां पर एल टाइप स्ट्रेन वाले वायरस ही मिले हैं और ये वायरस एस टाइप स्ट्रेन से ज्यादा खतरनाक हैं। अपनी रिसर्च के बारे में सीजी जोशी ने दावा किया है कि एक मरीज का सैंपल लेकर कोरोना के जीनोम बनाने के दौरान ये पाया गया है कि उस सैंपल में कोरोना का एल स्ट्रेन है। वहीं दूसरी ओर इंदौर के महात्मा गांधी मेमोरियल मेडिकल कॉलेज की डीन ने कहा कि हम एल-स्ट्रेन की पुष्टि के लिए नमूनों को एनआईवी पुणे भेजेंगे।

अन्य खबरें