दारोगा के असफल अभ्यर्थियों ने फिर किया बवाल, दो घंटे सड़क जाम 

Sunil, Last updated: Fri, 14th Feb 2020, 3:07 PM IST
दारोगा के असफल अभ्यर्थियों ने गुरुवार को फिर बवाल काटा। इनलोगों ने करीब दो घंटा जेपी गोलंबर के पास सड़क को जाम रखा, जिससे आवागमन बिल्कुल ठप रहा। हालांकि पुलिस इस बार बल प्रयोग से बची। ऐसे में कुछ घंटा...
jam(dummy photo)

दारोगा के असफल अभ्यर्थियों ने गुरुवार को फिर बवाल काटा। इनलोगों ने करीब दो घंटा जेपी गोलंबर के पास सड़क को जाम रखा, जिससे आवागमन बिल्कुल ठप रहा। हालांकि पुलिस इस बार बल प्रयोग से बची। ऐसे में कुछ घंटा सड़क पूरी तरह जाम रखने के बाद अभ्यर्थियों से सड़क को आधा खाली करवाया गया, जिसके बार पौने तीन बजे आवागमन शुरू हो पाया।

इससे पहले 10.30 बजे अभ्यर्थियों का जत्था पटना सायंस कॉलेज के पास जमा हुआ। फिर भिखना पहाड़ी, गांधी चौक, मुसल्लहपुर, नया टोला, मछुआ टोली, बाकरगंज होते हुए सैकड़ों की संख्या में अभ्यर्थी जेपी गोलंबर पहुंचे। यहां पहले से तैनात पुलिस कर्मी ने बैरीकेटिंग कर रखी थी। भीड़ यहीं रूक गई। उसके बाद सरकार के खिलाफ में नारे लगाने लगे। हाथों में पोस्टर लिए अभ्यर्थी दारोगा भर्ती परीक्षा की सीबीआई जांच की मांग कर रहे थे। करीब एक घंटा से ज्यादा समय तक अभ्यर्थी सड़क पूरी तरह जाम रखा। इससे आवागमन पूरी तरह ठप हो गई। गाड़ियों की लंबी लाइन लग गई। पुलिस बार-बार भीड़ से रास्ता छोड़ने की अपील करती रही। लेकिन भीड़ टस से मस नहीं हुई। बाद में वहां मौजूद मजिस्ट्रेट के हस्तक्षेप किया। अभ्यर्थियों के प्रतिनिधि को राजभवन और मुख्यमंत्री कार्यालय में ज्ञापन सौंपने और अधिकारियों से मिलवाने की बात कही। इसके बाद प्रतिनिधि अभ्यर्थियों से सड़क जाम खत्म करने की अपील क ी। लेकिन अभ्यर्थियों में दो फाड़ हो गया। वो हटने से मना कर दिए।

पुलिस ने हटाया
करीब पौने तीन बजे पुलिस का एक जत्था थोड़ा बैरिकेटिंग हटाकर अभ्यर्थियों से आधी सड़क खाली करवाई। तब जाकर ट्रैफिक खुला। लेकिन अभ्यर्थी प्रतिनिधियों के वापस आने तक सड़क पर बैठे ही रहे। जब ज्ञापन सौंपकर छात्र प्रतिनिधि वापस लौटे तब वहाँ से छात्र हटे। आंदोलन का नेतृत्व कर रहे दिलीप कुमार ने छात्रों को संबोधित करते हुए कहा कि आश्वासन दिया गया है कि 4-5 घंटे मे मुख्यमंत्री जी तक मांग पहुँच जाएगा। दिलीप कुमार ने कहा कि अगर 72 घंटे के अंदर मुख्यमंत्री जी ने हमलोगों की मांग पर विचार नहीं किया तो हमलोग आमरण अनशन पर बैठेंगे और साथ ही  24 फरवरी से जब विधानसभा का सत्र शुरू होगा तो विधानसभा का घेराव भी करेंगे। प्रतिनिधिमंडल में दिलीप कुमार, अनु कुमारी, बबलू, राहुल, अभिषेक शामिल थे।

कोचिंग को कराया बंद: सुबह में मार्च जहां-जहां से निकला वहां स्वत: दुकानें बंद हो गई। जबकि कोचिंग को बंद कराया गया। लौटते हुए अभ्यर्थियों ने पुन: कोचिंगों को बंद कराया।
 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें